पृष्ठ:अयोध्या का इतिहास.pdf/७३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


४८ अयोध्या का इतिहास इन्सपेक्टर आफ स्कूल्स हैं। कविकुलदिवाकर सुधारक और भक्त-शिरोमणि तुलसीदास अयोध्या के स्मार्त वैष्णव थे। अभी मेरी याद में पन्ना रियासत के भूतपूर्व दीवान जानकीप्रसाद जो बाद में रसिकविहारी कहे जाते थे अयोध्या में आकर रहे और वैरागी होकर कनकभवन के महन्त हो गये । इन्हीं में से एक बाबा रघुनाथदास थे जो मेरे पिता के गुरु थे और जिन्होंने मेरा विद्यारम्भ कराया था; इन्हें भारतवर्ष के भिन्न भिन्न प्रान्तों के लाखों हिन्दू देवता समझ कर पूजते थे। बाबा युगला- नन्यशरण और उनके चले बाबा जानकीवरशरण दोनों संस्कृत और फारसी के बड़े विद्वान् थे और बाया युगलानन्यशरण जी बड़े कवि भी थे। हम कह चुके हैं कि वैरागियों के कई अखाड़ हैं । " इन सातों अखाड़ा के नियमित क्रम हैं जिसके अनुसार ये बड़े बड़े मेलों और ऐसे ही अवसरों पर चलते हैं । पहिले दिगम्बरी रहते हैं, फिर उनके बाद निर्वाणी दाहिनी ओर, और निर्मोही बाई ओर, तीसरी पंक्ति में निर्वाणियों के पीछे खाकी दाहिनी ओर, और निरालम्त्री बाई ओर । और निर्मोहियों के पीछे संतोषी और महानिर्वाणी । हर एक के आगे और पोछे कुछ स्थान स्नाली रहता है।" वैरागियों के इस संक्षिप्त वर्णन से तात्पर्य केवल यही है कि आज- कल नवशिक्षित युवकों में वैरागियों के प्रति जो कुविचार फैला हुआ है दूर हो जाय कि य हरामखोर हैं और अन्धविश्वासी हिन्दू-जनता के दान से जीते हैं और उस ही ठगते हैं। प्रत्येक संस्था में बुरे भी होते हैं किन्तु मैं विश्वास के साथ बिना प्रतिवाद के भय से कह सकता हूँ कि अयोध्या के वैष्णव वैरागी जैसा कि वे भगवान् रामचन्द्र के भक्त हैं वैसे उतने त्यागी संयमी भी हैं जितने संसार भर की और भी किसी धार्मिक संस्थाओं के पुरुष होंगे। मैं यह वह कर किसी का अपमान कदापि नहीं करना चाहता।