पृष्ठ:आकाश -दीप -जयशंकर प्रसाद .pdf/९१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ प्रमाणित हो गया।






देवदासी

'.............'

१---३---२५


प्रिय रमेश!

परदेस में किसी अपने से घर लौट आने का अनुरोध बड़ी सांत्वना देता है, परन्तु अब तुम्हारा मुझे बुलाना एक अभिनय-सा है। हाँ, मैं कटूक्ति करता हूँ, जानते हो क्यो? मैं झगड़ना चाहता हूँ, क्योकि संसार में अब मेरा कोई नहीं है, मैं उपेक्षित हूँ। सहसा अपने का-सा स्वर सुनकर मन में क्षोभ होता है। अब मेरा घर लौट कर आना अनिश्चित है। मैंने '.........' के हिन्दी-प्रचार-कार्यालय में नौकरी कर ली है। तुम तो जानते ही हो कि मेरे लिये प्रयाग और '••••••••••,

--- ८७ ---