पृष्ठ:आदर्श हिंदू १.pdf/२३४

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ जाँच लिया गया है।
( २२१ )

के लिये पंडित प्रियानाथ उसके साथ हो गए। ऐसा ही एक और भी अनर्थ गंगा जी में मछलियाँ मारने का देखा गया था।





―――――:*:―――――