पृष्ठ:आर्थिक भूगोल.djvu/५८७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
५७६
आर्थिक भूगोल

11 साधन और आर्थिक भूगोल , दिवालिया है । जलविद्युत् उत्पन्न करने तथा कारखानों की स्थापना करने के लिए उसे विदेशों से ऋण लेना होगा और इस प्रकार उसके ऊपर पूजीपति . राष्ट्रों का प्रभाव बढ़ जावेगा । यही नहीं पाकिस्तान में कुशल कारीगरों इंजिनि- यरों को भी बहुत कमी है। सारांश पाकिस्तान एक निर्धन खेतिहर. राष्ट्र के रूप में रहेगा। गमनागमन के साधनों की दृष्टि से भी पाकिस्तान अत्यन्त, धवनत है पाकिस्तान में केवल ६७४८ मील रेलवे लाइन है गमनागमन के और उसमें भी बंगाल आसाम रेलवे तथा यनं डब्लू.. पार वे रेलवे हैं जिनसे वर्ष में हानि होती है। सड़कें. बंदरगाह भी पाकिस्तान में बहुत कम हैं। पाकिस्तान में केवल. दो बंदगाह हैं करांची और चिटागाव किन्तु करांची को छोड़कर और कोई महत्वपूर्ण बंदरगाह पाकिस्तान में नहीं है। पाकिस्तान के दो भाग पूर्वीय और पश्चिमीय एक दूसरे से इतनी दूर हैं कि उनका एक दूसरे से आर्थिक और व्यापारिक सम्बंध स्थापित होने में कठिनाई होगी। अभ्यास के प्रश्न १-पाकिस्तान के प्राकृतिक साधनों का संझेंप में वर्णन कीजिए और बताइए कि वह प्राकृतिक साधनों की दृष्टि से कहाँ तक धनी है ? २- पाकिस्तान एक खेतिहर राष्ट्र रहेगा" विस्तार पूर्वक इस कथन की विवेचना कीजिए। ३-पाकिस्तान तथा हिन्दोस्तान के प्राकृतिक साधनों की तुलना कीजिए। ४-पाकिस्तान और हिन्दोस्तान की औद्योगिक उन्नति की दृष्टि से तुलना कीजिए। ५-पाकिस्तान में कपास, जूट, गेहूँ, फल और चावल कहा कहाँ उत्पन्न होते हैं विस्तार पूर्वक वतलाइए। ६-पाकिस्तान की प्रौद्योगिक उन्नति की सम्भावना के सम्बंध में एक छोटा सा लेख लिखिए। ७-पाकिस्तान के अन्तर्गत कौन कौन से प्रदेश सम्मिलित हैं उनका वर्णन कीजिए। -पाकिस्तान की नहरों का विस्तारपूर्वक वर्णन कीजिए । क्या यह सच है कि पाकिस्तान में सिंचाई के साधन-उन्नत दशा में हैं ? ..