पृष्ठ:कर्बला.djvu/६१

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ जाँच लिया गया है।
६१
कर्बला

अब्बास---ऐसे ज़ालिम का कत्ल कर देना ऐन सबाब है।

हुसैन---अब्बास, यह खुदा की मंशा की दूसरी दलील है। यह उसकी बदनसीबी है कि तक़दीर ने उसे मेरी शहादत का वसीला बनाया है। अपने बेटे को कैद करने से किसी को खुशी नहीं हो सकती। जो आदमी अपने बेटे की ज़बान से अपनी तौहीन सुने, उससे ज़्यादा बदनसीब दुनिया में और कौन होगा।

जुबेर---मेरे खयाल में अगर आप कूफ़े की तरफ़ जायँ, तो वहाँ आपको मददगारों की कमी न रहेगी।

हबीब---या हज़रत, मैं कूफ़ा के क़रीब का रहनेवाला हूँ, और कूफ़ियों की आदत से खूब वाकिफ़ हूँ। दग़ा उनकी खमीर में मिली हुई है। आप उनसे बचे रहिएगा। वह आपके पास अपनी बैयत के पैग़ाम भेजेंगे। उनके क़ासिद-पर-क़ासिद आयेंगे, और आपको चैन न लेने देंगे। उनके खतों से ऐसा मालूम होगा कि सारा मुल्क आप पर फ़िदा होने के लिए तैयार है। पर आप उनकी बातों में हर्गिज़ न आइएगा। भूलकर भी कूफ़ा की तरफ़ रुख न कीजिएगा। मेरी आपसे यही अर्ज़ है कि काबा से बाहर क़दम न रखिएगा, जब तक आप यहाँ रहेगे, आप सब बलाओं से बचे रहेंगे। कूफ़ा-वाले वफ़ादारी से उतना ही महरूम हैं, जैसे चिड़िया दूध से।

हुसैन---मैं कूफ़ावालों से खूब वाक़िफ़ हूँ। तुमने और भी ख़बरदार कर दिया, इसके लिए मैं तुम्हारा मशकूर हूँ।

हबीब---मैं यही अर्ज़ करने के लिए आपकी खिदमत में हाज़िर हुआ हूँ। अगर वे लोग रोते हुए आकर आपके पैरों पर गिर पड़ें, तो भी आप उन्हें ठुकरा दीजिएगा। इसमें शक नहीं कि वे दिलेर हैं, दीनदार हैं, मेहमानेवाज़ हैं, पर दौलत के गुलाम हैं। इस ऐब ने उनकी सारी खूबियों पर परदा डाल दिया है। वज़ीफ़े और जाग़ीर के लालच और वज़ीफ़े तथा जागीर की ज़ब्ती का खौफ़ उनसे ऐसे कौल करा सकता है, जिसकी इन्सान से उम्मीद नहीं की जा सकती।

हुसैन----हबीब, मैं तुम्हारी सलाह को हमेशा याद रखूँगा।

जुबेर---हबीब, तुमने कूफ़ियों के बारे में जो कुछ कहा, वह बहुत कुछ