पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/१३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


शोभा रहती है कि वायु के सार अग मे सुगंध फैली रहती है अर्थात् इस ऋतु मे सुगधित वायु बहा करती है। उसी प्रकार- गणिका अधिक असमसर अर्थात् कामवती होती है और लोक मर्यादा तथा लज्जा को मेटने मे बडी निपुण दिखलाई पडती है । वह अपनी लतारूपी बाहुओ के द्वारा बूढे, जवान, बालक तथा धूत्त सभी के हृदयो मे उमग पूर्वक लपटती है । जब मधुप (शराबी) लोग उसके ओठो के मधु को पीते है तब उसे रुचिकर प्रतीत होता है। और वह कोयल जैसी बोली वाली तथा सुख की सागर ही होती है। उसके शरीर की गति सदा यही रहती है कि उससे सुगन्ध निकलती रहे।