पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/७३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


उदाहरण कवित्त दुहरुख मुख मानौ, पलट न जानी जात, देखिकै अलात जोत जाति होति मंद लाजि । 'केशोदास' कुशल कुलाल चक्र चक्रमन, चातुरी चितै कै चारु चातुरी चलत भाजि । चंद जू के चहूंकोद वेष परिवेष कैसो, देखत ही रहिए न कहिए वचन साजि । धाप छोडि आपनिधि जानि दिशि दिशि रघु- नाथ जू के छत्र तर भ्रमत भ्रमीन बाजि ॥७॥ श्री रामचन्द्र जी का भ्रमणकारी घोडा दौडने का मैदान छोडकर तथा चारो ओर सतुद्र ही समुद्र समझता हुआ उन्हीं के छत्र के नीचे चक्कर काट रहा है । मानो उसके मुख का रुख दोनो ओर है, उसकी पलट ज्ञात ही नहीं होती अर्थात् इतनी शीघ्रता से पलट जाता है कि ज्ञात ही नहीं होता कि कब पलट गया। उसे देखकर बनेठी की ज्योति भी लज्जित होकर मन्द पड़ जाती है। 'केशवदास' कहते है कि उसके भ्रमण की चतुरता को देखकर कुम्हार के चाक के घूमने की शीघ्रता भाग जाती है । चन्द्रमा के चारो ओर होने वाले परिवेष ( घेरा) की भाँति उसे देखते ही रह जाना पडता है, कुछ कहा नहीं जाता । ३-कुटिलवर्णन दोहा अलक, अलिक, भ्रुकुचिका किंशुक शुकमुख लेखि । अहि, कटाक्ष, धनु, बीजुरी, ककनभग्न विशेखि ॥८॥ बाल, चद्रिका, बालशशि, हरि, नख शूकरदंत । कुदालादिक वरणिये, कपटी कुटिल अनंत ॥६॥