पृष्ठ:कोड स्वराज.pdf/१३२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।

कोड स्वराज

यह विचार कि आप अपने वकील को आदेश दे सकते हैं और वे केवल आज्ञा का पालन करेंगें, तो यह प्रो बोनो कानूनी प्रतिनिधित्व की दुनिया में बहुत ही कम सही है। मैं आभारी हूँ कि दुनिया भर के नौ प्रमुख कानून फर्स, पब्लिक रिसोर्स का प्रतिनिधित्व करने के लिए, प्रौं बोनो आधार पर सहमत हुए हैं। वर्ष 2015 में, उन्होंने कानूनी समय के रूप, 2.8 मिलियन डॉलर का योगदान दिया। वर्ष 2016 में यह 1.8 मिलियन डॉलर से अधिक का हुआ, और वर्ष 2017 में, 1 मिलियन डॉलर से भी अधिक का हुआ। हमारी लड़ाई उनके सहयोग के बिना संभव ही नहीं है। मेरे पास इतने पैसे नहीं थे और आखिरकार हमें इस संघर्ष से पीछे हट जाना पड़ता।

पुनः मैं ‘रीयल डेटा' पर काम करने लगाः मेरा ‘ब्रेड लेबर'

जैसे नवंबर खत्म होने वाला था, मैंने भारत से अपने बचे कामों पर, काम करना जारी रखा। सबसे महत्वपूर्ण भारत की डिजिटल लाइब्रेरी का काम था, जिसे मैंने भारत की पब्लिक । लाइब्रेरी में बदल दिया। सरकार ने तब भी अपना संस्करण वापस ऑनलाइन नहीं किया था और संस्कृत के विद्वानगण मुझे अतिरिक्त सामग्री के लिए नोट्स भेज रहे थे। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया) से प्राप्त 4,450 पुस्तकों को जोड़ कर, हमने कुल 4,00,000 पुस्तकों के वॉल्यूम्स ऑनलाइन कर डाले।

इसके अलावा भारत के आधिकारिक राजपत्रों को ऑनलाइन करने में काफी समय लग रहा था। संघीय सरकार के राजपत्रों को इंटरनेट पर मिरर करना सीधा कार्य था। पब्लिक लाइब्रेरी संग्रह (रिपॉजिटरी) में खोजते वक्त मुझे स्वतंत्रता से पहले के कई सौ पुराने राजपत्र मिले, और उन्हें भी संग्रह में जोड़ दिये गए। हालांकि मुश्किल भाग, राज्य सरकारों और कई बड़े शहरों के राजपत्र से संबंधित थे।

एक उदाहरण ओड़िशा राजपत्र का था, जो 43 लाख लोगों के राज्य का आधिकारिक प्रकाशन है। मैंने एक स्क्रिप्ट लिखा जिससे राजपत्र के 38.073 प्रकाशन, पीडीएफ फाइलों में आ गए। लेकिन, जब मैंने ये स्क्रिप्ट चलाई और कुछ फाइलों को देखा तो पाया कि उन्होंने ओड़िया भाषा के लिए एक ख़ास फ़ॉन्ट को रेफर किया था जो पीडीएफ फाइल में एम्बेडेड नहीं था। इस कारण हम जो भी देख रहे थे वह सब कचरा दिख रहा था, क्योंकि हमारा कंप्यूटर, फ़ाइल में एम्बेड किए गये फ़ॉन्ट्रों के बजाय सिस्टम पर इंस्टॉल किए गए फ़ॉन्ट्रों के बीच उस ख़ास फ़ॉन्ट को खोज रहा है।

कई स्क्रिप्ट चलाने के बाद मैंने तय किया कि 35,705 फाइलों में यह समस्या थीं। मझे। उन्हें इंटरनेट आर्काइव में अपलोड करने से पहले फॉट को एम्बेड करना था। लेकिन, जो फ़ॉन्ट आपके सिस्टम पर होगा वह अस्पष्ट होगा। बहुत साल पहले यह एक भारतीय अनुसंधान संस्थान द्वारा तैयार किया गया था। कई दिनों तक खोजने के बाद, मैं इसे न कहीं बेचा जाता पाया, न डाउनलोड करने के लिये पाया, इसलिए मैंने इस समय ओड़िशा का काम तत्काल रोक दिया हैं।

अन्य राज्यों के काम और भी मुश्किल थे। ओड़िशा के मामले में, मैं राजपत्र के मुद्दों की लंबी सूचियों के साथ इंडेक्स फाइलों को खींच सकता था और उस इंडेक्स फ़ाइल में

124