पृष्ठ:कोड स्वराज.pdf/१३८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।

कोड स्वराज

हमारे खोज परिणामों की सटीकता की जांच करनी थी ताकि गलत परिणामों (फाल्स पाजिटिव) को छांटा जा सके, और इसके लिये लेखकों के आधिकारीपना” के संकेतों कों तलाश करना था, जैसे कि लेखकों ने अपने लेख की समीक्षा के लिए अपने किस तरह के सहयोगियों का धन्यवाद किया है, या इसके विपरीत, क्या लेख यह दर्शाता है कि उन्होंने सरकारी सेवा (Self-Employed Women's Association of India) में प्रवेश करने के पहले यह काम किया था।

परिणाम बेहद स्पष्ट थे। जितने भी लेख हमें मिले उनमें से अधिकांश लेख अमेरिकी सरकार के अधीन किए गए काम थे। और किसी भी मामले में प्रकाशक ने इसे कॉपीराइट से परे नहीं दिखाया था। अधिकांश मामलों में, लेख सावधानी से एक ‘पे वॉल' के पीछे छिपे हुए थे और निश्चित रूप से कोई भी लेख सरकार की वेब साइट पर उपलब्ध नहीं थे। प्रत्येक एजेंसी के द्वारा राष्ट्रीय पुरालेख (नेशनल आर्काइव) पर डाले रिकॉर्डों के परीक्षण से यह स्पष्ट था कि आर्काइव में इन लेखों की प्रति नहीं थी।

ज्यादातर शोध विषयों के लिए, बड़े पैमाने पर किये गये ग्रंथसूची खोज (बिब्लियोग्राफिक सर्च) सफल रहे हैं। लेकिन विधि (लीगल) व्यवसाय के लिए ऐसा नहीं है, क्यों कि वे प्रौद्योगिकी की अनभिज्ञता पर जानबूझ कर गर्व करते हैं। विधि साहित्य सामान्यतः विशेष विक्रेताओं के साथ ऐसे जुड़े होते हैं कि ये सामान्य ग्रंथसूची सर्च इंजनों से नहीं खोजे जा सकते हैं। हालांकि, मैं वास्तव में यह जानना चाहता था कि विधि पत्रिकाओं में क्या विशेष बात थी क्योंकि यह काम कानून से संबंधित थी। मैंने देश भर के लॉ के विद्यार्थियों की सहायता ली, और मेरे साथ जुटे एक स्वयंसेवक, येल लॉ स्कूल के मीशा गुटेनटैग (Misha Guttentag), के नेतृत्व में कुछ प्रमुख जर्नल को उठाकर, उसके प्रत्येक अंक को एक एक कर के उन लेखों की सूची के तैयार करने के लिए कहा जिसे संघीय कर्मचारियों ने लिखे थे,और उन्हें एक स्प्रेडशीट्स पर डाल कर पेश करने को कहा।

विश्वविद्यालय की विधि समीक्षा (यूनिवर्सल ला रिव्यूज़) पत्रिका के अलावा, विधि प्रकाशन में एक और प्रमुख पत्रिका है अमेरिकी बार एसोसिएशन की। मैंने यह काम खुद किया और दर्जनों अलग-अलग प्रकाशनों में कई दशकों के लेखों की जांच च्यक्तिगत रूप से की। मुझे 552 लेख मिले जो निश्चित रूप से ऐसे लगते थे, जैसे वे संघीय कर्मचारियों के थे, जो संभवतः उन्होंने आधिकारिक कर्तव्यों के दौरान किये गये थे।

ऐसा ही एक उदाहरण है संघीय व्यापार आयोग के एक आयुक्त का। वो एजेंसी के विनियामक कार्यों और आने वाले वर्ष के लिए सुधारों पर, स्पर्धारोधी (एन्टीट्रस्ट) बार को ब्रीफ कर रहे थे। एक अन्य उदाहरण है एक सैन्य अधिकारी का। वह अपनी आधिकारिक कर्तव्यों के दौरान, प्रोक्योरमेंट ला पर एक उच्च डिग्री प्राप्त करने के लिए, एक पत्रिका में लेख लिखते हैं। इन मामलों में से किसी भी ऐसे लेखों को सरकारी काम के रूप में नहीं करार किया गया था।

मैं सामान्य शोध साहित्य और कानूनी साहित्य में खोज करने, और सबूतों के बड़े हिस्से को इकट्ठा कर रहा था। इसके अलावा, मैं ‘सरकारी कार्य की उत्पत्ति' वाले उपवाक्य (क्लॉज़) को समझने के लिए कानूनी साहित्य का गहराई से अध्ययन कर रहा था। यह भी समझने

130