पृष्ठ:कोड स्वराज.pdf/१४५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


कोड स्वराज पर नोट

अपील की राय खरीदने के लिए 6,00,000 डॉलर खर्च किए, पब्लिक सेफ्टी कोड को खरीदने के लिए 2.50,000 डॉलर खर्च किए, या न्यायालय के गठन वर्ष 1891 से अभी तक के नाइंथ सर्किट ऑफ द यूएस कॉर्ट ऑफ अपील के 3.5 मिलियन पन्नों को स्कैन करने के लिए 3,00,000 डॉलर ‘इंटरनेट आर्काइव' को दिए।

मैं प्रिंट क्यों करता हूँ?

बहुत से लोगों ने सुझाव दिया कि मैं पैसा जुटाने के लिए ‘किक स्टार्टर’ की तरह क्राउडसोर्सिंग (crowdsourcing)” प्लेटफॉर्म का उपयोग करूं। मैंने कई बार इसका उपयोग किया, लेकिन इसे ज्यादा सफलता नहीं मिली। किकस्टार्टर जैसे प्लेटफार्म तब अच्छी तरह से काम करते हैं, जब आप लोगों को एकदम नये हार्डवेयर, या किसी किताब या किसी अन्य ठोस वस्तु को देने का वादा करते हैं जो किसी भी अन्य स्थान पर उपलब्ध न हो। अच्छे मिशन के लिए इस दुनिया में आम समर्थन मिलना तब भी कठिन होता है, जब आप अभियान के हिस्से के रूप में लोगों को किताबों का, या अन्य कोई पुरस्कार भी देते हैं।

मैंने छुट्टियों के दौरान, छोटे योगदान के लिए अपील करने की कोशिश भी की है, लेकिन स्पष्ट रूप से, ऐसे कई अन्य जगह भी है, जहां मैंने लोगों को, व्यक्तिगत योगदान करने के लिए सुझाव दिया है, जैसे ई.एफ.एफ या इंटरनेट आर्काइव जैसे नेटवर्क ऑपरेशन, और कई ऐसे बाध्य कर देने वाले चैरिटी जैसे फुड बैंक, आपात राहत, आदि।

क्राउडसोर्सिंग अभियान से बहुत सारे विस्मयकारी काम होते हैं, जो अनुदान संचयन (फंड रेज़िंग) के लिये, या कुछ मुद्दों पर अधिक ध्यान आकर्षित करने के लिये होते हैं, जैसे PACER शुल्क इत्यादि। मुझे किसी भी काम को अपने प्रिंटिंग प्रयासों के माध्यम से करना अधिक प्रभावी लगता है, जो सामान्य रूप से, आम जनता को अपील करने की बजाय लक्ष्य पर केन्द्रित होते हैं। उदाहरण के लिए, हमने भारत के बिल्डिंग कोड को बेहतर ग्राफिक के माध्यम से एच.टी.एम.एल में परिवर्तित करने के बाद, इसे सुंदर आवरण के साथ 2 खंडों के हाईकवर में प्रिंट किया, और इसके भीतर भारत के कई हिस्टॉरिकल बिल्डिंग को जगह-जगह पर चित्रित किया। इसे पॉइन्ट.बी.स्टूडियो के द्वारा डिजाइन किया गया था और मैंने इसकी केवल एक दर्जन प्रतियां ही प्रिंट कराई थीं लेकिन वे काफी भव्य थीं।

मैं जो कर रहा था उसके सशक्तता दिखाने के लिये, मैंने उनकी प्रतियों को सैम पित्रोदा और भारतीय मानक ब्यूरो को भेजा था। मैं उन्हें यह दिखाना चाहता था कि मैं इस काम के प्रति काफी गंभीर हूँ और उसके लिए मैंने वास्तव में काफी प्रयास किये हैं, ताकि इस कार्य से बहुत सुधार हो सके।

इसी प्रकार जब मैंने डेलावेयर कॉरपोरेट कोड का गैर-कानूनी संस्करण तैयार किया जिसे राज्य सचिव की आज्ञा के बिना करने से, जेल की सज़ा सुनाने का प्रावधान था, तो उसके बाद मैंने राज्य सचिव और अटॉर्नी जर्नल का ध्यान आकर्षित करने के लिए उन्हें, इसकी प्रतियां भेजी थीं। अपने मित्र के माध्यम से अगले अटॉर्नी जर्नल बियू बिडेन से संपर्क करने के बाद भी, मुझे उनसे कोई उत्तर नहीं मिला।

137