पृष्ठ:कोड स्वराज.pdf/४४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।

कोड स्वराज

कई देशों के लिए वांछनीय मानक और व्यावहारिक नहीं हैं - एक शब्द में कहा जाय तो ये पुराना डिज़ाइन 'सार्वभौमिक' नहीं है।

सूचना (Information) हमें एक नया डिजाइन तैयार करने का अवसर प्रदान करती है जो मानव की जरूरतों पर, नए आर्थिक मापदण्डों पर, अर्थव्यवस्था के पुनर्जनन । (regeneration) पर, पर्यावरण पर, खपत के बजाय संरक्षण/संवर्धन पर, और अन्ततोगत्वा अहिंसा पर, ध्यान केंद्रित करती है।

[ताली]

और फिर यह कार्य भी गांधीवादी विचारों से संबंधित है। मेरा मानना है कि इतिहास की तुलना में, गांधीवादी विचार आज की दुनिया के लिए अधिक प्रासंगिक हैं।

इंटरनेट के माध्यम से, हम वास्तव में गांधीवादी विचारों के साथ बड़ी संख्या में युवाओं तक पहुंच सकते हैं। नई तकनीक और संभावनाओं के साथ, दुनिया में सभी चीजों के साथ, लड़ाई का कोई कारण ही नहीं है, क्योंकि अगले 20 सालों में बहुत कुछ परिवर्तन होने वाला है - मसलन, मनुष्य की औसत आयु, उत्पादन, भोजन, परिवहन, संचार, चिकित्सा,पर्यावरण, ऊर्जा, इन सभी में क्षेत्र में खासा परिवर्तन होने वाले हैं।

ये सभी बदलाव हमारे समाज के पुनर्गठन का एकदम नया तरीका प्रदान करेगा।

दुनिया को नया स्वरूप देने के बारे में आज बहुत कम बातचीत होती है। हर कोई पुराने डिजाइन में ही फंस कर रह गए हैं। सभी का मानना है कि हमें अमेरिका की नकल करनी चाहिए, और हमें वही करना चाहिए जो 70 साल पहले अमेरिका ने किया था। मैं, उन लोगों में से एक हूं जो यह मानता हूं कि यह डिजाइन अब एकदम नहीं काम करता है।

मैं, यह सोचता हूं कि कार्ल, इंटरनेट आर्काइव, और अन्य सभी लोग एक प्रकार से सूचना को लोकतांत्रिक करने, लोगों को सशक्त बनाने, उन्हें अपने भविष्य पर अधिक अधिकार देने, उन्हें अपने लोकतंत्र में भाग लेने के लिए सहायता कर रहे है।

आज, कई देशों में, लोकतंत्र मौजूद है, फिर भी कोई कार्य करने के लिये बहुत ज्यादा आजादी नहीं है।

इंटरनेट आर्काइव और इंटरनेट, इन दस्तावेजों को, बड़ी संख्या में लोगों तक पहुंचा रहे हैं, इसे उपलब्ध करा रहे हैं कहीं भी, किसी भी समय पर, और वह भी मुफ्त में, जो वास्तव में दुनिया के भविष्य के लिए एकदम भिन्न आयाम प्रदान करता है।

मैं, संभावना को लेकर बहुत उत्साहित हूं। मैं भी इसमें शामिल होना चाहता हूं। मुझे खुशी है। कि आज मुझे यह अवसर प्राप्त हुआ है कि मैं, कार्ल के साथ हूं।

36