पृष्ठ:ग़बन.pdf/२४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।



सूझी । उसका दिल उछल पड़ा; पर इस बात को वह मुंह तक न ला सका। मोह ! कितनी नीचता है ! कितना कपट, जितनी निर्दयता ! अपनी प्रेयसी के साथ ऐसी धूर्तता ! उसके मन ने धिक्कारा । अगर इस वक्त उसे कोई हजार रुपया दे देता, तो वह उसका उम्र-भर के लिये मालाम हो जाता । दयानाथ ने पूछा- कोई बात सूझी ?

'मुझे तो कुछ नहीं सूझती ।'

"कोई उपाय सोचना ही पड़ेगा !'

“आप ही सोचिए, मुझे तो कुछ नहीं सूझता ।'

'क्यों नहीं उमसे दो-तीन गहने मांग लेते ? तुम चाहो, तो ले सकते हो । हमारे लिये मुश्किल है।'

'मुझे शर्म आती है।'

'तुम विचित्र आदमी हो, न खुद मांगोगे, न मुझे माँगने दोगे, तो आखिर यह नाव कैसे चलेगी ? मैं एक बार नहीं हजार बार कह चुका कि मुझसे कोई आशा मत रक्खो मैं अपने आखिरी दिन जेल में नहीं काट सकता । इसमें शर्म की क्या बात है, मेरी समझ में नहीं आता । किसके जीवन में ऐसे कुअवसर नहीं आते ? तुम्हीं अपनी मां से पूछो।

जानेश्वरी ने अनुमोदन किया-मुझसे तो नहीं देखा जाता था कि अपना आदमी चिन्ता में पड़ा रहे, मैं गहने पहने बैठी रहूँ। नहीं तो आज मेरे पास भी गहने न होते ? एक-एक करके सब निकल गये। विवाह में पांच हजार से कम का चढ़ावा नहीं गया था; मगर पाँच ही साल में सब स्वाहा हो गया । तब से एक छल्ला बनवाना भी न नसीब हुआ।

दयानाय जोर देकर बोले- शर्म करने का यह अबसर नहीं है। इन्हें मांगना पड़ेगा !

रमानाथ ने झेंपते हुए कहा-मैं मांग तो नहीं सकता, कहिये उठा यह कहते-कहते लज्जा,क्षमा और अपनो नीचता के ज्ञान से उसकी आँखें सजल हो गयीं।

दयानाथ ने भौंचक्के होकर कहा-उठा लायोगे, उससे छिपाकर ?

रमानाथ ने तीव्र कंठ से कहा--और आप क्या समझ रहे हैं ?

ग़बन
१९