पृष्ठ:ग़बन.pdf/२६३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।



हूँ——जी हाँ, आज बारा-न्यारा कर दूंगा। इतने दिनों तक आप लोगों के इशारे पर चला । अब अपनी आँखों से देखकर चलूंगा !

इंस्पेक्टर ने दारोगा का मुंह देखा, दारोगा ने डिप्टी का मुंह देखा, डिप्टी ने इंस्पेक्टर का मुँह देखा । यह क्या कहता है? इंस्पेक्टर साहब विस्मित होकर बोले—— क्या बात है । हलफ़ से कहता हूँ, आप कुछ नाराज मालूम होते है।

रमा——मैंने फैसला किया है, कि आज अपना बयान बदल दूंगा । बेगुनाहों का खून नहीं कर सकता।

इंस्पेक्टर ने दया-भाव से उसकी तरफ़ देखकर कहा——आप बेगुनाहों का खून नहीं कर रहे हैं, अपनी तकदीर को इमारत खड़ी कर रहे है । हलफ़ से कहता हूँ, ऐसे मौके बहुत कम आदनियों को मिलते। आज क्या बात हुई, कि आप इतने खफा हो गये ? आपको कुछ मालूम है दारोगा साहब ? आदमियो ने तो कोई शोखी नहीं की ? अगर किसी ने आपके मिजाज के खिलाफ कोई काम किया हो, तो उसे गोली मार दीजिए, हलफ से कहता हूँ।

दारोगा——मैं अभी जाकर पता लगाता हूँ।

रमा०——आप तकलीफ न करें। मुझे किसी से शिकायत नहीं है । मैं थोड़े से फायदे के लिए अपने ईमान का खून नहीं कर सकता।

एक मिनट सन्नाटा रहा। किसी को कोई बात न सूझी । दारोगा कोई दूसरा चकमा सोच रहे थे, इंस्पेकटर कोई दूसरा प्रलोभन । डिप्टी एक दूसरी ही फिक्र में था । रूखेपन से बोला——रमा बावु यह अच्छा बात न होगा।

रमा ने भी गर्म होकर कहा——आपके लिए न होगी, मेरे लिए तो सबसे अच्छी यही बात है।

डिप्टी——नहीं ! आपका वास्ते इससे बुरा दूसरा वारा नहीं है । हम तुमको छोड़ेगा नहीं। हमारा मुकदमा चाहे बिगड़ जाय; लेकिन हम तुमको ऐसा 'लेसन' दे देगा कि उमिर भर न भूलेगा। आपको वही गवाही देना होगा जो आप दिया । अगर तुम कुछ गड़बड़ करेगा, कुछ भी गोलमाल किया, तो हम तोमारे साथ दोसरा बर्ताव करेगा। एक रिपोर्ट में तुम यों (कलाइयों को ऊपर नीचे रखकर) चला जायगा ।

यह कहते हुए उसने आँखे निकालकर रमा को देखा, मानो कच्चा ही

२५८
ग़बन