पृष्ठ:ग़बन.pdf/३६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


जालपा-मगर हैं मक्खीचूस पल्ले सिरे के !

रमा०-मक्खीचूस न होते, तो इतनी सम्पत्ति कहाँ से आती?

जालपा-मुझे तो किसी को परवा नहीं है जी, हमारे घर किस बात की कमी है ! दाल-रोटी वहाँ मिल जायेगी। दो-चार सखी-सहेलियाँ है, खेत-खलिहान हैं, बाग-बगीचे हैं,जी बहलता रहेगा।

रमा०-और मेरी क्या दशा होगी, जानती हो ? घुल घुलकर मर जाऊँगा । जब से चोरी हुई है, मेरे दिल पर जैसो गुजरती है, वह दिल ही जानता है। अम्मा और बाबूजी से एक बार नहीं, लाखों बार कहा, जोर देकर कहा कि दो-चार चीजें तो बनवा ही दीजिये पर किसी के कान पर जूं तक न रेंगी । न जाने क्यों मुझसे आंखें फेर लीं।

जालपा-जब तुम्हारी नौकरी कही लग जाये तो मुझे बुला लेना ।

रमा-तलाश कर रहा हूँ। बहुत जल्द मिलनेवाली है। हजारों बड़े-बड़े आदमियों से मुलाकात है, नौकरी मिलते क्या देर लगती है, हाँ, जरा अच्छी जगह चाहता हूँ।

जालपा-मैं इन लोगों का रुख समझती हूँ। मैं भी यहाँ अब दावे के साथ रहूँगी । क्यों, किसी से नौकरी के लिए कहते नहीं हो?

रमा०—शर्म आती है किसी से कहते हुए।

जालपा-इसमें शर्म की कौन-सी बात है ? कहते शर्म आती हो, तो खत लिख दो।

रमा उछल पड़ा, कितना सरल उपाय था, और अभी तक यह सीधी-सी बात उसे न सूझी थी। बोला-हाँ, यह तुमने बहुत अच्छी तरकीब बतलाई। कल ज़रूर लिखूंगा।

जालपा-मुझे पहुँचाकर आना, तो लिखना। कल ही थोड़े लौट आओगे।

रमा०-तो क्या तुम सचमुच जाओगी ? तब मुझे नौकरी मिल चुकी और मैं खत लिख चुका ! इसी बियोग के दुःख मै बैठकर रोऊँगा कि नौकरी ढूंढेगा । नहीं, इस वक्त जाने का विचार छोड़ो । नहीं, सच कहता हूं, मैं कहीं भाग जाऊँगा । मकान का हाल देख चुका । तुम्हारे सिवा और कौन बैठ हुआ है, जिसके लिए यहाँ पड़ा सड़ा करूं ? हटो तो जरा मैं बिस्तर खोल दू़ं।

ग़बन
३१