पृष्ठ:ग़बन.pdf/६२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


से न बुलाया होता, तो शायद रमा को दुकान पर जाने का साहस न होता। अपनी साख का उसे अभी तक अनुभव न हुआ था। दूकान पर जाकर बोला- यहाँ हम जैसे मजदूरों का कहाँ गुज़र है, महाराज ! गाँठ में कुछ हो भी तो!

गंगू- यह आप क्या कहते हैं सरकार ! आपकी दूकान है, जो चीज चाहिये ले जाइए । दाम आगे-पीछे मिलते रहेंगे । हम लोग आदमी पहचानते हैं बाबू साहब, ऐसी बात नहीं है । धन्य भाग कि आप हमारी दुकान पर आये तो । दिखाऊँ कोई जड़ाऊ चीजें? कोई कंगन, कोई हार । अभी हाल ही में दिल्ली से माल आया है।

रमा- कोई हल्के दामों का हार दिखाइए।

गंगू- यही कोई सात-आठ सौ तक ?

रमा०- अजी नहीं, हद चार सौ तक।

गंगू- मैं आपको दोनों दिखाये देता हूँ। जो पसन्द आये, ले लीजिएगा। हमारे यहाँ किसी तरह का दगल-फसल नहीं, बाबू साहब। इसकी आप जरा भी चिन्ता न करें । पाँच बरस का लड़का हो, या सौ बरस का बूढ़ा, सबके साथ एक बात रखते हैं। मालिक को भी एक दिन मुँह दिखाना है, बाबू जी!

संदूक सामने आया; गंगू ने हार निकाल-निकालकर दिखाने शुरू किये । रमा की आँखें खुल गयीं, जी लोट पोट हो गया। क्या सफाई थी ! नगीनों की कितनी सुन्दर सजावट! कैसी आब-साब ! उनकी चमक दीपक को मात करती थी। रमा ने सोच रखा था, सौ रुपये से ज्यादा उधार न लगाऊँगा, लेकिन चार सौ वाला हार आँखों में कुछ जँचता न था। और जेब में कुल तीन सौ रुपये थे । सोचा, अगर यह हार ले गया और जालपा ने पसन्द न किया, तो फायदा ही क्या। ऐसी चीज ले जाऊँ कि वह देखते ही फड़क उठे । यह जड़ाऊ हार उसकी गर्दन में कितना शोभा देगा । यह हार एक सहस्र मणि-रंजित नेत्रों से उसके मन को खींचने लगा। वह अभिभूत होकर उसकी ओर ताक रहा था; पर मुँह से कुछ कहने का साहस न होता था। कहीं गंगू ने तीन सौ रुपये उधार लगाने से इनकार कर दिया, तो उसे कितना लज्जित होना पड़ेगा। गंगू ने उसके मन का संशय ताड़कर कहा- आपके लायक तो बाबूजी यही चीज है, अँधेरे घर में रख दीजिए तो उजाला हो जाये !

ग़बन
५७