पृष्ठ:गोदान.pdf/३३६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
332: प्रेमचंद रचनावली-6
 


-कहती जाओ, मगर उसका जवाब सुनने के लिए तैयार रहो।

-तुम्हारे पास कोई जवाब नहीं है, केवल हठ-धर्म है। तुम कहोगे यहां तुम्हारा जो सम्मान है वह वहां न रहेगा, वहां कोई तुम्हारी रक्षा करने वाला न होगा, कोई तुम्हारे दु:ख-दर्द में साथ देने वाला न होगा। इसी तरह की और भी कितनी ही दलीलें तुम दे सकते हो। मगर मैंने मिस बटलर को आजीवन क्वांरी रहकर, सम्मान के साथ जिंदगी काटते देखा है। उनका निजी जीवन कैसा था, यह मैं नहीं जानती। संभव है वह हिंदू गृहिणी के आदर्श के अनुकूल न रहा हो, मगर उनकी इज्जत सभी करते थे, और उन्हें अपनी रक्षा के लिए किसी पुरुष का आश्रय लेने की कभी जरूरत नहीं हुई।

सन्तकुमार मिस बटलर को जानता था। वह नगर की प्रसिद्ध लेडी डाक्टर थी। पुष्पा के घर से उसका घराव-सा हो गया था। पुष्पा के पिता डाक्टर थे और एक पेशे के व्यक्तियों में कुछ घनिष्ठता हो ही जाती है। पुष्पा ने जो समस्या उसके सामने रख दी थी उस पर मीठे और निरीह शब्दों में कुछ कहना उसके लिए कठिन हो रहा था। और चुप रहना उसकी पुरुषता के लिए उससे भी कठिन था।

दुविधा में पड़कर बोला-मगर सभी स्त्रियां मिस बटलर तो नहीं हो सकतीं?

पुष्पा ने आवेश के साथ कहा-क्यों? अगर वह डाक्टरी पढ़कर अपना व्यवसाय कर सकती हैं तो मैं क्यों नहीं कर सकती?

-उनके समाज में और हमारे समाज में बड़ा अंतर है।

-अर्थात् उनके समाज के पुरुष शिष्ट हैं, शीलवान हैं, और हमारे समाज के पुरुष चरित्रहीन हैं, लंपट हैं, विशेषकर जो पढ़े-लिखे हैं।

-यह क्यों नहीं कहतीं कि उस समाज में नारियों में आत्मबल हैं, अपनी रक्षा करने की शक्ति है और पुरुषों को काबू में रखने की कला है।

-हम भी तो वही आत्मबल और शक्ति और कला प्राप्त करना चाहती हैं लेकिन तुम लोगों के मारे जब कुछ चलने पावे। मर्यादा और आदर्श और जाने किन-किन बहानों से तुम दबाने की और हमारे ऊपर अपनी हुकूमत जमाए रखने की कोशिश करते रहते हो।

सन्तकुमार ने देखा कि बहस फिर उसी मार्ग पर चल पड़ी है जो अंत में पुष्पा को अमर रश धारण करने पर तैयार कर देता है, और इस समय वह उसे नाराज करने नहीं, उसे खुश 31 . आया था। बोला-अच्छा साहबसारा दोष पुरुषों का है, अब राजो हुई। पुरुष भी हुकूमन करत करात थक गया है, और अब कुछ दिन विश्राम करना चाहता है। तुम्हारे अधीन रहकर अगर वह इस संघर्ष से बच जाय तो वह अपना सिंहासन छोड़ने को तैयार है। पुष्पा ने मुस्कराकर कहा- अच्छा, आज से घर में बैठो। -बड़ेशौक से गूंगा, मेरे लिए अच्छे -अच्छे कपड़ेअच्छी-अच्छो सवारियां ला दो। जैसे तुम कहोगी वैसा ही करेगा। तुम्हारी मरजी के खिलाफ एक शब्द भी न बोलूगा। फिर तो न कहोगे कि स्त्री पुरुष का। मुहताज है, इसलिए उसे पुरुष की गुलामी करनी चाहिड़? -कभी नहीं, मगर एक शर्त पर -कौन-सी शर्त?