पृष्ठ:गोदान.pdf/३४८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
348: प्रेमचंद रचनावली-6
 


क्या हक है और मुझे बे-काम-धंधे इतने आराम से रहने का क्या अधिकार है ? मगर यह सब समझकर भी मुझमें कर्म करने की शक्ति नहीं है। इस भोगविलास के जीवन ने मुझे भी कर्महीन बना डाला हैं। और मेरे मिजाज में अमीरी कितनी है यह भी आपने देखा होगा। मेरे मुंह से बात निकलते ही अगर पूरी न हो जाय तो मैं बावली हो जाती हूं। बुद्धि का मन पर कोई नियंत्रण नहीं है। जैसे शराबी बार-बार हराम करने पर शराब नहीं छोड़ सकता वही दशा मेरी है। उसी की भांति मेरी इच्छाशक्ति बेजान हो गई है।

तिब्बी के प्रतिभावान मुखमंडल पर प्राय : चंचलता झलकती रहती थी। उससे दिल की बात कहते संकोच होता, क्योंकि शंका होती थी कि वह सहानुभूति के साथ सुनने के बदले फबतियां कसने लगेगीपर इस वक्त ऐसा जान पड़ा उसकी आत्मा बोल रही है। उसकी आंखें अर्द हो गई थींमुख पर एक निश्चित नम्रता और कोमलता ख़िल उठी थी।सन्तकुमार ने देखा उनका संयम फिसलता जा रहा है, जैसे किसी साग्रल ने बहुत देर के बाद दाता को मनगुर देख पाया हो और अपना मतलब कह सुनाने के लिए अधीर हो गया हो।

बोला-कितनी ही बार। बिल्कुल यही मेरे विचार हैं। मैं आपसे उससे बहुत निकट हूं, जितना समझता था।

तिब्बी प्रसन्न होकर बोली--अपने मुझे कभी बताया नहीं।

-आप भी तो आज ही खुली हैं।

-मैं डरती हूं कि लोग यही कहेंगे आप इतनी शान से रहती हैं, और बातें ऐसी करती हैं। अगर कोई ऐसी तरकीब होती जिससे मेरी यह अमीरामा आदतें छूट जाती तो मैं उसे जरूर काम में लाती। इस विषय की आपके पास कुछ पुस्तकें हों तो मुझे दीजिएमुझे आप अपनी शिष्या बना लीजिए।

सन्तकुमार ने रसिक भाव से कहा-मैं तो आपका शिष्य होने जा रहा था। और उसकी ओर मfभरी आंखों से ।

तिब्बी ने आंखें नी ची नहीं कीं। उनका हाथ पकड़कर बोनी आप तो दिल्लगी करते हैंमुझे ऐसा बना दीजिए कि मैं संकटों का सामना कर सकू। मुझे बार बार खटकता अगर मैं स्त्री न होती तो मेरा मन इतना दुर्बल न होता

और जैसे वह आज सन्तकुमार से कुछ भी छिपाना, कुछ भी बचाना नहीं चाहतो। मागां वह जो आश्रय बहुत दिनों से ढूंढ़ रही थी वह यकायक मिल गया हैं।

सन्तकुमार ने रुखाई भरे स्वर में कहास्त्रियां पुरुषों से ज्यादा दिलेर होती हैं मिस

अच्छा आपका मन नहीं चाहता कि बस हो तो संसार की सारी व्यवस्था बदल डाले?

इस विशुद्ध मन से निकले हुए प्रश्न का बनावटी जवाब देते हुए सन्तकुमार का हृदय कप उठा।

कुछ न पूछो। बस आदमी एक आह खींवकर रह जाता है।

मैं तो अक्सर रातों को यह प्रश्न सोचते-सोचते सो जाती हैं और वही स्वप्न देरलानी हूं। देखिए दुनिया वाले कितने खुदगर्ज हैंजिस व्यवस्था से सारे समाज का उद्धार हो म्कता है वह थोड़े से आदमियों के स्वार्थ के कारण दबी पड़ी हुई है।

सन्तकुमार ने उतरे हुए मुख से कहा-उसका समय आ रहा है। और उठ खड़े हुए। यहां