पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/११६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


चांदी फी डिबिया यह डिबिया थी उसमें तुमने झाडू लगाई, तुम कमरे में अकेली थीं । डिबिया यहां तुम्हारे घर में रखी हुई है। फिर भी तुम कहती हो मैंने नहीं लिया ? मिसेज़ जोन्स जी हाँ। जो चीज़ नहीं ली, उसे कैसे कह दूं कि ली है। स्नो तब वह डिबिया यहाँ कैसे आ गई ? मिसेज़ जोन्स मैं इस विषय में कुछ न कहना ही उचित स. मझती हूँ। स्नो यह तुम्हारे पति हैं ? मिसेज़ जोन्स जी हाँ, यह मेरे पति हैं। १०८