पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/२०२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


चांदी की डिबिया [अंक ३ स्नो जी हाँ! जोन्स [बीच में बोलकर] ज़रूर झल्लाता रहा । जब मैं तुमसे कह रहा था कि डिबिया मैंने ली है तो तुमने मेरी बीबी पर क्यों हाथ डाला? मैजिस्ट्रेट [ गर्दन बढ़ाकर हिश करके डाटता हुश्रा] तुम जो कुछ कहना चाहोगे, उसे कहने का मौका तुझे अभी मिलेगा। इस अफ़सर से तुम्हें कुछ पूछना है। जोन्स [चिढ़कर] नहीं। १९४