पृष्ठ:चाँदी की डिबिया.djvu/२१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


चांदी की डिबिया [अङ्क ३. मैजिस्ट्रेट [गर्दन आगे बढ़ाकर ] तुमने इसे चुराया नहीं ? तुमने इसे सिर्फ ले लिया ? क्या तुम्हारी थी? यह चोरी नहीं तो और है क्या? जोन्स मैंने इसे ले लिया। मैजिस्टेट तुमने इसे ले लिया ! तुम इसे उनके घर से अपने घर ले गए- जोन्स [गुस्से से बात काट कर ] मेरे कोई घर नहीं है। मैजिस्टेट अच्छी बात है। देखे नवयुवक मिस्टर बार्थिविक तुम्हारे बयान के बारे में क्या कहते हैं ? २०६