पृष्ठ:जायसी ग्रंथावली.djvu/३६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
( १६ )

( १६ ) गरा के पुत्र बादल की अवस्था बहुत थोड़ी थी । जिस दिन दिल्ली जाना था। उसी दिन उसका गौना आाया था। उसकी नवागता वध ने उसे युद्ध में जाने से बहत रोका पर उस वीर कुमार ने एक न सुनी। अंत में सोलह सौ सवारियों के सहित वे दिल्ली के किले में पहुँचे । वहाँ कर्मचारियों को घुस देकर अपने अनुकूल किया जिससे किसी ने पालकियों की तलाशी न ली। बादशाह के यहाँ खबर गई कि पद्मिनी आाई है और कहती है कि मैं राजा से मिल लू गें और उन्हें चित्तौर के खजाने की कुंजी सुपुर्द कर दू’ तब महल में जाऊँ। बादशाह ने आज्ञा दे दी । वह सजी हई पालकी वहाँ पहुँचाई गई जहाँ राजा रत्नसेन कैद था। । पालकी में से निकल- कर लौहार ने चट राजा की बेङी काट दी और वह शस्त्र लेकर एक घोड़े पर सवार हो गया जो पहले से तैयार था । देखते देखते और हथियारबंद सरदार भी पालकियों में से निकल पड़े। इस प्रकार गोरा औौर बादल राजा को छुड़ाकर चित्तौर चले । बादशाह ने जब सुना तब अपनी सेना सहित पीछा किया । गोरा बादल ने जब शाही फौज पीछे देखी तब एक हजार सैनिकों को लेकर गोरा तो शाही फौज को रोकने के लिये डट गया और बादल राजा रत्नसेन को लेकर चित्तौर की ओर बढ़ा। वृद्ध वीर गोरा बड़ी बीरता से लड़कर और हजारा को मारकर अंत में सरजा के हाथ से मारा गया। इस बीच में राजा रत्नसेन चित्तौर पहुँच गया। पहुँचते ही उसी दिन रात को पद्मिनी के मुह से रत्नसेन ने जब देवपाल की दुष्टता का हाल सुना तब उसने उसे बाँध लाने की प्रतिज्ञा की। सबेरा होते ही रत्नसेन ने कुंभल नेर पर चढ़ाई कर दी। रत्नसेन और देवपाल के बीच द्वंद्व युद्ध हुया । देवपाल की साँग रत्नसेन की नाभि में घुसकर उस पार निकल गई। देवपाल साँग मारकर लौटा ही चाहता था कि रत्नसैन ने उसे जा पकड़ा और उसका सिर काटकर उसके हाथ पैर बाँधे । इस प्रकार अपनी प्रतिज्ञा पूरी कर और चित्तौर गढ़ की रक्षा का भार बादल को सौंप रत्नसेन ने शरीर छोड़ा । राजा के शव को लेकर पद्मावती औौर नागमती दोनों रानियाँ सती हो गईं। इतने में शाही सेना चित्तौरगढ़ जा पहुँची । बादशाह ने पद्मिनी के सती होने का समाचार सुना। बादल ने प्राण रहते गढ़ की रक्षा की पर अंत में वह फाटक की लड़ाई में मारा गया औौर चित्तौरगढ़ पर मुसलमानों का अधिकार हो गया। {{||ऐतिहासिक ग्राधार|}} पद्मावत की संपूर्ण आाख्यायिका को हम दो भागों में विभक्त कर सकते हैं । रत्नसेन की सिंहलद्वीप यात्रा से लेकर चित्तौर लौटने तक हम कथा का पूर्वार्ध मान सकते हैं और राघव के निकाले जाने से लेकर पद्मिनी के सती होने तक उत्तरार्ध। ध्यान देने की बात यह है कि पूर्वार्ध तो बिलकल कल्पित कहानी है और उत्तर ऐतिहासिक आधार पर है । ऐतिहासिक अंश के स्पष्टीकरण के टाड राजस्थाने में दिया हुआ चित्तौरगढ़ पर अलाउद्दीन की चढ़ाई का वृत्तांत हम नीचे देते हैं लिये 'विक्रम संवत १३३१ में लखनसी चित्तौर के सिंहासन पर बैठा । वह छोटा था। इससे इसका चाचा भीमसी (भीमसिंह)ही राज्य करता था। भीमसी का विवाह