पृष्ठ:देवकीनंदन समग्र.pdf/५१६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
पृष्ठ को जाँचते समय कोई परेशानी उत्पन्न हुई।


इस समय मायारा की आयो साम-पाजी गुलयूटों से हरा भरा नमानिसकी लम्बाई चार सौ गज और चौडाई सराद तीन सौ गज से ज्यादे मागीय मैदान पारो तरजालगी और सर महासपिरा हुआ था fore पर के पेड़ों और सुन्दर दर की सीकर कर राग 41 4 मिनट आ रहे थे। सामने की तरफ पटासी की आधी वा से शेरना गिर 7 या nिian बिल्ली की सर, स्य, जल नीच आर बारीक और पचीला नालियों का सा आ रन्दादियनाता हुआ रमायोरशनुमा काम और अपने पायीको तरी पा रहा था। सुगनुमा और माटी वालिया सलिलु साला warmfat:या की मुरली व हुई रसील फूलो पर घूम घूर कर पाए (ए मत मारा ५१ मजा उपासदिल और सुगौ दन के साथ चैतन्य कर ही या। इस स्सा in आदि पर इस य ME HAEL : पूर्व भगवान् की ५) धूप छह की बानी धादर सविता रवी की fotohire iपि और सुस्का से विकल भावासो पोलाखर कार मता और PETA मा दल का दना और जब 4 छ | आई सोचा लगा कि एस का 11 अपूर्व आदिला hirt1.t विचार का सा ही दाहिनी तरफ का पहाड़ी पर पाल aircle inkaitri Putal तरह दशा मी र पाया कि कारागाह कर dous artml जिरा जगह मारवारानो उvilish Romantrit intactलग छाटा छाटी गाया 41tfarmit rinety पौछ मायारा। याना Sirrनुमा चीनी pantichi marathini Trick पगला बना गया और उसका भावाला का 'LATExpert.itiatriterarl दारागा के पास आ पा र , ints ... onunting मायारा पहिया-1 समय आप int 423111155+ Pure will do it do*P3, 3.12. up to **iemelt मगर इस विषय में कुछ pril नया : Yes - hts"या स५. ना? एक-जी हायात Lal oriwartant Rurat दारोगा-सा हाल + at nine it mi ! - khun wili और सकावट स जीत पारो आदमी पापनantarius at :स्तुगधागा यही पकी और सुस्त हारा थी इसलिए 4.1 टिनाइके RT और स. २८ मा सहुत ज्यादा दर लगे। पर पाकर मायारान किया गम अटारसार attes agref और 5-747 हुआ है मगर यहा पर इस मीट (RA Stदुर सुपर कम 5 HOURS का हल लिकरमण्यय की बातें लिखनाही जचता पाहै। उस समय इन्ददाय वानी कलि स्वर निकल आया बयान उभर के पास पहुआ जिसमें वह रहता था। वहादा) सदा तपारस मिला और यातिर के साथ अन्दर ले जाकर दाया। इन्ददेव-( दारागा से ) आप और मायारानी vire करने का सबब पूजा के पहित में जानना चाहता है कि आपने क पर पटटीया बाध रक्त है? दारोगा-तुमसे विदा होकर भाजा शुछ तकलीफ उगई यह उसी का है। अब जरा दम लने के बाद अपना फिस्सा तुमसे कटूगा तब सवाल मालूम हो जायमा इस समय पूर प्यास और कागद त जी पर्धन हो रहा है। दारोगा का जवाब सुन कर इन्द्रदेव युप से रहा और फिर कुछ बातचीत न हुई। दारागा और मायारानी के खाने पीने का उत्तम प्रबन्ध कर दिया गया और उन दोनों ने कई घण्टे तक आराग कर अपनी थकावट दूर की। जब सप्या होन में थाडी देर बाकी थी तब इन्ददेव स्वप उस कमरे में आया जिसमें दारोगा का डेरा पड़ा हुआ था। दह कमरा इन्ददय के कमरे के बगल ही में था और उसमें जाने के लिए कपल एक मामूली दर्वाजा था। उस समय मायारानी दारोगा के पास बैठी अपना दुखड़ा रो रही थी। इन्ददेव के आते ही वह चुप हो गई और बाबाजी ने खातिर के साथ इन्ददेव को अपने बगल में पैठाया। देवकीनन्दन खत्री समग्र ५०६