पृष्ठ:देव और बिहारी.djvu/२९८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


देव और विहारी माड़ा व्याप रहा है कि कुछ सूझता ही नहीं । ठहरिए, देवजी की विशाल-प्रार्थना को पढ़िए, उसे बार-बार दुहराइए, सच्चे मन से अपने को ईश्वर के अर्पण कर दीजिए, फिर मूढ़ता नष्ट हो जायगी, अज्ञानांधकार का कहीं पता नहीं रहेगा, कोमल श्रमल-ज्योति के दर्शन होंगे, आँखों में पड़ा हुआ माया का माड़ा छूट जायगा, इंद्रिय-चोर भाग जायगा और आप सदा के लिये सब प्रकार से निरापद हो जायेंगे- मूढ है रह्यो है, गूढ़ गति क्यों न हूँढ़त है, गूढचर इंद्रिय अगूढ़ चार मारि दै: बाहर हू तर निकारि अंधकार सब, ज्ञान की अगिनि सों श्रयान-बन बारि दै। नेह-भरे भाजन मै कोमल अमल जाति , _____ताको हू प्रकास चहूँ पुंजन पसारि दै; आवै उमड़ा-सो मोह-मेह घुमड़ा-सो "देव" , माया को मड़ा-सो अँखियन से उधारि दै। देवजी के जिस ज्ञान की चर्चा ऊपर की गई है, उसका विकास योग्य पान के हृदय-पटल पर ही संभव है। कुपात्र के सामने उसकी चर्चा व्यर्थ है । जहाँ देव के इन भावों का परीक्षक अंधा है, उसके पिट्ट गूंगे हैं तथा अन्य दर्शक बहरे हैं, वहाँ इनका आदर क्या हो सकता है ? स्वयं देवजी कहते हैं- साहेब अंध, मुसाहेब मूक, समा बहिरी, रँग रीझ को मान्यो । भूल्यो तहाँ भटक्यो भट औघट, बूड़िबे को कोउ कर्म न बाच्यो । भेष न सूझयो, कह्यो समुझयो न, बनायो सुन्यो न, कहा रुचि राच्यो, "देव" तहाँ निबरे नट की विगरी मति को सिगरी निसि नाच्यो । पर यदि ज्ञान-चर्चा की कृषि किसी सुपात्र के भावुक-उर्वर हृदय- क्षेत्र में की गई, तो सुफल फलने में भी संदेह नहीं हो सकता।