पृष्ठ:मानसरोवर १.pdf/२१५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


कायर

युवक का नाम केशव था, युवती का प्रेमा। दोनों एक ही कालेज के और एक ही क्लास के विद्यार्थी थे। केशव नये विचारों का युवक था, जात-पात के बन्धों का विरोधी । प्रेमा पुराने संस्कारों की कायल थो, पुशनी मर्यादाओं और प्रथाओं में पूरा विश्वास रखनेवाली , लेकिन फिर भी दोनों में गाढ़ा प्रेम हो गया था। और यह बात सारे कालेज में मशहूर थी। केशव ब्राह्मण होकर भी बैश्य कन्या प्रेमा से विवाह करके अपना जीवन सार्थक करना चाहता था। उसे अपने माता-पिता को परचाइ न थी। कुल मर्यादा का विचार भी उसे स्वाग-सा लगता था। उसके लिए सत्य कोई वस्तु थी तो प्रेमा थी; किन्तु प्रेमा के लिए माता-पिता और कुल-परिवार के भादेश के विरुद्ध एक कदम बढ़ना मो असम्भव था!

संध्या का समय है। विक्टोरिया-पार्क के एक निर्जन स्थान में दोनों आमने- सामने हरियाली पर बैठे हुए हैं। सैर करनेवाले एक-एक करके विदा हो गये ; किंतु ये दोनों अभी वहीं बैठे हुए हैं। उनमें एक ऐसा प्रसग छिड़ा हुआ है, जो किसी तरह समाप्त नहीं होता।

केशव ने झुंझलाकर कहा --- इसका यह अर्थ है कि तुम्हें मेरी परवाह नहीं है।

प्रेमा ने उसको शान्त करने की चेष्टा करके कहा --- तुम मेरे साथ अन्याय कर रहे हो, केशव ! लेकिन मैं इस विषय को माता-पिता के सामने कैसे छेडूं, यह मेरी समझ में नहीं आता। वे लोग पुरानी रूढ़ियों के भक्क है। मेरी तरफ से कोई ऐसो मात सुनकर उनके मन में जो-जो शकाएं होंगी, उनकी कल्पना कर सकते हो ?

केशव ने उप्र-भाव से पूछा --- तो तुम भी उन्हीं पुरानी रूढ़ियों की गुलाम हो ?

प्रेमा ने अपनी बड़ी-बड़ी आँखों में मृदु-स्नेह भरकर कहा-नहीं, मैं उनको गुलाम नहीं हूँ लेकिन माता-पिता की इच्छा मेरे लिए और सब चीजों से मान्य है।

'तुम्हारा व्यक्तित्व कुछ नहीं है ?'

'ऐसा हो समझ लो।'

'मैं तो समझता था कि वे ढकोसले मूर्खाओं के लिए ही हैं, लेकिन अब