पृष्ठ:राजा और प्रजा.pdf/९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रवीन्द्र बाबूके अन्य ग्रन्थ । . १ स्वदेश । इसमें रवीन्द्रबाबूके १ नया और पुराना, २ नया वर्ष, ३ भारतका इतिहास, ४ देशी राज्य, ५ पूर्वीय और पाश्चात्य सभ्यता, ६ ब्राह्मण, ७ समाजमेद, और ८ धर्मबोधका दृष्टान्त, इन आठ निबन्धोंका हिन्दी अनुवाद है । अपने देशका असली स्वरूप समझनेवालोंको, उसके अन्तःकरण तक प्रवेश करनेकी इच्छा रखनेवालोंको, तथा पूर्व और पश्चिमका अन्तर हृदयंगम करने. वालोंको ये अपूर्व निवन्ध अवश्य पढ़ने चाहिए । बड़ी ही गंभीरता और विद्व- सासे ये निबन्ध लिखे गये हैं। तृतीयावृत्ति हो चुकी है । मू० ॥2) २शिक्षा । इसमें १ शिक्षा-समस्या, २ आवरण, ३ शिक्षाका हेरफेर, ४ शिक्षा-संस्कार और ५ छात्रोंसे संभाषण, इन पाँच निबन्धों के अनुवाद हैं। इनमें शिक्षा और शिक्षापद्धतिके सम्बन्धमें बड़े ही पाण्डित्यपूर्ण विचार प्रकट किये गये हैं। इनसे आपको मालूम होगा कि हमारी वर्तमान शिक्षापद्धति कैसी है, स्वाभाविक शिक्षापद्धति कैसी होती है और हमें अपने बच्चोंको केसी शिक्षासे शिक्षित करना चाहिए । मूल्य नौ आने । ३ आँखकी किरकिरी । यह रवीन्द्रबाबूके बहुत ही प्रसिद्ध उपन्यास 'चोखेर वालि' का हिन्दी अनुवाद है। वास्तव में इसे उपन्यास नहीं किन्तु मानस शास्त्र के गूढ तत्वोंको प्रत्यक्ष करानेवाला मनोमोहक चित्रपट कहना चाहिए । मनुष्यों के विचारोंमें बाहरी घटनाओं और परिस्थितियों के कारण जो अगणित परिवर्तन होते हैं उनका आभास आपको इसकी प्रत्येक पंक्ति और प्रत्येक वाक्यमें मिलेगा। सहृदय पाठक इसे पढ़कर मुग्ध हो जायेंगे। बड़ा ही सरस उपन्यास है। जो लोग केवल प्रेम-कथायें पढ़ना पसन्द करते हैं, उनका भी इससे खूब मनोरंजन होगा । क्योंकि इसमें भी एक प्रेम कथा प्रथित की गई है । अनुवाद बहुतही उत्तम हुआ है । तृतीयावृत्ति । मू. १) मैनेजर, हिन्दी-ग्रन्थ रत्नाकर कार्यालय, हीरावाग, पो. गिरगाँव, बम्बई ।