पृष्ठ:विनय पत्रिका.djvu/१८६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विनय-पत्रिका तरु-कोटर मह बस विहंग तरु काटे मरे न जैसे। साधन करिय बिचार-हीन मन सुद्ध होइ नहिं तैसे ॥३॥ अंतर मलिन विषय मन अति, तन पावन करिय पखारे। मरइ न उरग अनेक जतन वलमीकि विविध विधि मारे ॥४॥ तुलसिदास हरि-गुरु-करुना विनु बिमल बिबेक न होई। बिनु बिबेक संसार-चोर-निधि पार न पावै कोई ॥५॥ भावार्थ-हे माधव ! मेरी यह मोहकी फॉसी कैसे टूटेगी। बाहरसे चाहे करोड़ों साधन क्यों न किये जाय, उनसे भीतरकी ( अज्ञानकी ) गॉठ नहीं छूट सकती ॥१॥ घीसे भरे हुए कडाहमे जो चन्द्रमाकी परछाई दिखायी देती है, वह (जबतक धीरहेगा तबतक) सौ कल्पतक ईंधन और आग लगाकर औटानेसे भी नष्ट नहीं हो सकती । (इसी प्रकार जबतक मोह रहेगा, तबतक यह आवागमनकी फाँसी भी रहेगी)॥२॥ जैसे किसी पेड़के कोटरमें कोई पक्षी रहता हो, वह उस पेड़के काट डालनेसे नहीं मर सकता, उसी प्रकार बाहरसे कितने ही साधन क्यों न किये जायें पर बिना विवेकके यह मन कभी शुद्ध होकर एकाग्र नहीं हो सकता ॥ ३ ॥ जैसे साँपके बिलपर अनेक प्रकारसे मारनेपर और बाहरसे अन्य उपायोंके करनेपर भी उसमें रहनेवाला साँप नहीं मरता, वैसे ही शरीरको खूब मल-मलकर धोनेसे विषयोंके कारण मलिन हुआ मन भीतरसे कभी पवित्र नहीं हो सकता ॥ ४॥ हे तुलसीदास ! भगवान् और गुरुकी दयाके बिना संशयशून्य विवेक नहीं होता और विवेक हुए बिना इस घोर ससार- सागरसे कोई पार नहीं जा सकता ॥ ५॥