पृष्ठ:सप्तसरोज.djvu/७६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ प्रमाणित हो गया।
सप्तसरोज
७२
 

नहीं की वरन उन्हें अपने पिताकी यह ठकुरसुहातीकी बात असह्य-सी प्रतीत हुई। पर पण्डितजी की बातें सुनीं तो मनकी मैल मिट गयी। पण्डितजीकी ओर उड़ती हुई दृष्टि से देखा। सद्भाव झलक रहा था। गर्वने अब लज्जा के सामने सिर झुका दिया। शर्माते हुए बोले, यह आपकी उदारता है जो ऐसा कहते है। मुझसे जो कुछ अविनय हुई है, उसे क्षमा कीजिये। मैं धर्मकी बेड़ी मे जकडा हुआ था। नहीं तो वैसे मैं आपका दास हूँ। जो आज्ञा होगी, वह मेरे सिर-माथे पर।

अलोपीदीनने विनीत भावसे कहा, नदीके तटपर आपने मेरी प्रार्थना न स्वीकार की थी, किन्तु आज स्वीकार करना पड़ेगा

वंशीधर बोले, मैं किस योग्य हूँ, किन्तु जो कुछ सेवा मुझसे हो सकती है उसमे त्रुटि न होगी।

अलोपीदीनने एक स्टाम्प लगा हुआ पत्र निकाला और उसे वंशीधर के सामने रखकर बोले, इस पदको स्वीकार कीजिये और अपने हस्ताक्षर कर दीजिये। मैं ब्राह्मण हूँ, जबतक यह सवाल पूरा न कीजियेगा, द्वारसे न हटूंगा ।

मुंशी वंशीधर ने उस कागजको पढ़ा तो कृतज्ञतासे आँखों में आंसू भर आये। पण्डित अलोपीदीनने उन्हें अपनी सारी जायदाद का स्थायी मैनेजर नियत किया था। छ हजार वार्षिक वेतन के अतिरिक्त रोजाना खर्च अलग, सवारीके लिये घोडे, रहनेको बगला, नौकर-चाकर मुफ्त। कम्पित स्वरसे बोले, पण्डित जी मुफ्त मे इतनी सामर्थ्य नहीं है कि आपको इस उदारताकी प्रशंसा कर सकूँ। किन्तु मैं ऐसे उच्चपद के योग्य नहीं हूँ।