पृष्ठ:सम्पत्ति-शास्त्र.pdf/१४०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
पृष्ठ को जाँचते समय कोई परेशानी उत्पन्न हुई।
१२१
लगान।

सान। 1 माग- समोमगा उपजाऊ न पाले में बात काममा गया है । लोगों के नाम मी मागी पंजो अनाज का मशः ना। मल निगमका लावियों हो या नो नार पान पसे रोज मनाहान र मागे करनी पनी गाना भोग Giri पानी, र मरिमाला देश का पानी प्रामी की प्रामदनः 'पानी भी न । म मादी बहन ने देश की गिनिजगी या नामा का अनुमान नागर नमना । याही सानिमा मापसी नाजप, कि सीमाट प्रकादमदगदान सामना मना हो जातं । उमा. पामिन पानी गानेदारों को मेन्या काना मानी मान्द्रि को कागदना पर पुति को भोपानर से देश का मानना हिन्दुस्तान में लगानसम्बन्धी बन्दोबस्त । इन्न कालमान सरल करने का वा पार । या मां मेगान नाही नागगा जाना । जमीन में लगान में सम्या रगनचाले या दोन के बन्लान-निमगरी धीर-बग्निमगगे। अंगाल पार विर में लगान कानमगरी समाधान । उमं अंगजी में " पगोनेट मंटन, ट" लगाम में कभी नामी की नानी । जा लगान निधन हो गया नही देना पाना । समीर पानी में इम, मान्दाः, नाम या नान वर्ष बाद फिर नया भोगना फिर जमीन फीमा तानी पारमिंग निर मे लगान गाया जाना सा अंगाद नहीं नागान में जमादरीजमान र मन्तिका इनका उन्न बान शावधान या जमीन मामदार नहीं किये जायंगे पार नाम रगान का अधिक लिया जायगा । हमी योग घर ही जी लगाकर जमीन पर अधिक उपसाऊ बनान। फल या डताय उनका भी प्रायदा हाना पर देश की सानि भी बदनी ।। मननि बदन मे परम्मत में सरकार को भी लार irail अंगाल पार, निर को आनका प्रधान सन फार्मा गैर-म्निमगर्ग अर्थात् गन्दग्गजा बन्दोयम्न है । घर बन्योयन के बाद लगान की शगा अदला करनी में दो भदों गुना-प्रदेश, मध्य प्रम पार पंजाब में ज़मीदारी रोनि मेन्टगान यमूल किया जाना : पार प्रमा, पानाम. मदास