पृष्ठ:साहित्य का उद्देश्य.djvu/११६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
१११
फिल्म और साहित्य


अंक अापको भेजे भी गए थे।पता नहीं अापने उन्हे देखा कि नहीं। अस्तु।

आपने सिनेमा के सम्बन्ध मे जो कुछ लिखा है, वह ठीक है । साहित्य को जो स्थान दिया है, उससे भी किसी का मतभेद नहीं हो सकता। निश्चय ही सिनेमा ताड़ी और साहित्य दूध है; पर इस चीज को जेनेरलाइज करना ठीक न होगा। सिनेमा के लिए भी और साहित्य के लिए भी। साहित्य भी इसी ताडीपन से अछूता नहीं है । सिनेमा को मात करने वाले उदाहरण भी उसमे मिल जायेंगे-एक नहीं अनेक । और ऐसे व्यक्तियो के जिनको कि साहित्यिक ससार ने रिकग्नाइज किया है। और तो और, पाठ्यकोर्स तक मे जिनकी पुस्तकें हैं । अपने समर्थन मे महात्मा गान्वी के वे वाक्य उद्धत करने होगे क्या, जो कि उन्होंने इन्दौर साहित्य सम्मेलन के सभापति की हैसियत से कहे है ? लेकिन प्रत्यक्ष किम् प्रमाणम् । यही बात सिनेमा के साथ है । सिनेमा के साथ तो एक और भी गड़बड़ है। वह यह कि बदनाम है । आपके ही शब्दों में भिखमगे साधु वेश्याओं से अच्छे न होते हुए भी श्रद्धा के पात्र हैं। श्रद्धा के पात्र है, इसलिए टालरेबुल है या उतने विरोध के पात्र नहीं है, जितने कि वेश्याएँ । इसी तर्क शैली को लेकर आप सिद्ध करते हैं कि सिनेमा ताड़ी है और साहित्य दूध | ताडी ताड़ी है और दूध दूध । आपने इन दोनो के दर्मियान एक वेल मार्ड एन्ड वेल डिफाइन्ड लाइन आप डिफरेन्स खीच दी है।

मेरा आपसे यहाँ सैद्धान्तिक मतभेद है । मेरा ख्याल है कि यह विचारधारा ही गलत है, जो इस तरह की तर्क शैली को लेकर चलती है । कभी जमाना था, जब इस तर्क शैली का जोर था, सराहना थी पर अब नहीं है । इस चीज को हमे उखाड़ फेकना ही होगा।

एक जगह आप कहते है कि साहित्य का काम जनता के पीछे चलना नहीं, उसका पथ-प्रदर्शक बनना है । आगे चलकर आप साधु और वेश्याओं की मिसाल देते हैं। साधु वेश्याओ से अच्छे न होते हुए