पृष्ठ:सेवासदन.djvu/१६३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
२७८
सेवासदन
 

डाक्टर श्यामाचरण और कुंवर साहबके विषयमें अभी तक कुछ निश्चय नही हो सका था । दोनो पक्ष उनसे सहायताकी आशा रखते थे । उन्हीपर दोनों पक्षों की हार-जीत निर्भर थी। पद्मसिह अभी बारात से नही लौटे थे । बलभद्रदास ने इस अवसर को अपने पक्ष मे समर्थन के लिये उपयुक्त समझा और सब हिन्दू मेम्बरों को अपनी सुसज्जित बारहदरी मे निमंत्रित किया,इसका मुख्य उद्देश्य यह था कि डाक्टर साहब और कुंवर महोदय की सहानुभूति अपने पक्षमें कर ले । प्रभाकरराव मुसलमानों के कट्टर विरोधी थे । वे लोग इस प्रस्ताव को हिन्दू मुसलिम विवाद का रग देकर प्रभाकरराव को भो अपनी ओर खीचना चाहते थे ।

दीनानाथ तिवारी वोले, हमारे मुसलमान भाइयों ने तो इस विषय में बडी उदारता दिखाई पर इसमें एक गूढ़ रहस्य है । उन्होने 'एक पथ- दो काज' वाली चाल चली है । एक ओर तो समाज सुधारकी नेकनामी हाथ आती है दूसरी ओर हिन्दूओं को हानि पहुंचाने का एक बहाना मिलता है । ऐसे अवसर से वे कब चूकने वाले थे ।

चिम्मनलाल -मुझे पालिटिक्स से कोई वास्ता नही है और न मैं इसके निकट जाता हूं। लेकिन मुझे यह कहने में तनिक भी संकोच नहीं है कि हमारे मुसलिम भाइयों ने हमारी गरदन बुरी तरह पकडी है । चावलमंडी और चौकके अधिकांश मकान हिन्दुओं के है, यदि वोर्ड ने यह स्वीकार कर लिया तो हिन्दुओं का मटियामेट हो जायगा । छिपे छिपे चोट करना कोई मुसलमानों से सीख ले । अभी बहुत दिन नही बीते कि सूद की आड़ मे हिन्दुओं पर आक्रमण किया गया था। जब वह चाल पट पड़ गयी तो यह नया उपाय सोचा। खेद है कि हमारे कुछ हिन्दू भाई उनके हाथों की कठपुतली बने हुए है । वे नहीं जानते कि अपने दुरुत्साह से अपनी जाति को कितनी हानि पहुंचा रहे है ।

स्थानीय कौसिलमे जब सूदका प्रस्ताव उपस्थित था तो प्रभाकरराव ने उसका घोर विरोध किया था । चिम्मनलाल ने उसका उल्लेख करके और वर्तमान विषय को आर्थिक दृष्टिकोण से दिखाकर प्रभाकरराव को नियम