पृष्ठ:सेवासदन.djvu/३७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ प्रमाणित हो गया।
४०
सेवासदन
 

सुभद्रा-अच्छा तो लाइये मेरे रुपये दिलवाइये वहाँ आपकी बाजी थी, यहाँ मेरी बाजी है ।

पद्म--हॉ,हाँ तुम्हारे रुपये मिलेंगे, जरा सब्र करो । मित्र लोग आग्रह कर रहे है कि धूमधाम से आनन्दोत्सव किया जाय ।

सुभद्रा-—हाँ, कुछ न कुछ तो करना ही पड़ेगा और यह उचित भी है ।

पद्म-मैने प्रीतिभोज का प्रस्ताव किया,किन्तु इसे कोई स्वीकार नहीं करता । लोग भोली वाई का मुजरा कराने के लिए अनुरोध कर रहे है ।

सुभाद्रा-—अच्छा तो उन्ही की मान लो, कौन हजारो का खर्च है। होली भी आ गई है, बस होली ही के दिन रक्खो । एक पन्य दो काज हो जायगा ।

पद्म-—खर्च की बात नही, सिद्धान्त की बात है ।

सुभद्रा-भला, अबकी बार सिद्धान्त के विरुद्ध ही सही ।

पद्म-विट्ठलदास किसी तरह राजी नही होते । पीछे पड़ जायेंगे।

सुभद्रा-उन्हें बकने दो । संसार के सभी आदमी उनकी तरह थोड़े ही हो जायेंगे ।

पण्डित पद्मसिंह आज कई वर्षो के विफल उद्योग के बाद म्युनिसिपैलिटी के मेम्बर बनने में सफल हुए थे । इसी के आनन्दोत्सव की तैयारियाँ हो रही थी । वे प्रीतिभोज करना चाहते थे, किन्तु मित्र लोग मुजरे पर जोर देते थे । यद्यपि वे स्वय बडे आचारवान् मनुष्य थे, तथापि अपने सिद्धान्तों पर स्थिर रहने को सामर्थय उनमे नही थी । कुछ तो मुरोवत से कुछ अपने सरल स्वभाव और कुछ मित्रो की व्यगोविन के भय से, वह अपने पक्षपर अड़ न सकते थे । बाबू विट्ठलदास उनके परम मित्र थे । वह वेश्या नाच गानके कट्टर शत्रु थे । इस कुप्रथा को मिटाने के लिए उन्होने एक सुधारक संस्था स्थापित की थी । पण्टित पद्मसिंह उनके इने-गिने अनुयायियो में थे । पण्डितजी इसीलिए विट्ठलदास से डरते थे। लेकिन सुभद्रा के बढावा देने से उनका संकोच दूर हो गया ।