पृष्ठ:हिंदी भाषा और उसके साहित्य का विकास.djvu/९०

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ जाँच लिया गया है।

७६

भी 'स' का प्रयोग पाया जाता है--जैसे राजस्थानी ( जयपुरी) करसी, पश्चिमी पंजाबी 'करेसी' इत्यादि । इसी प्रकार संख्यावाचकों में 'स' का 'ह' प्रायः सभी मध्यकालीन तथा आधुनिक आर्यभाषाओं में पाया जाता है। जैसे पश्चिमी हिन्दी में 'ग्यारहबारह' 'चौहत्तर' इत्यादि” । १

'अंतरंग वहिरंग भेद के संयोगावस्था के प्रत्ययों और वियोगावस्था के स्वतंत्र शब्दों के भेद की कल्पना भी दुर्बल है। अंतरंग मानी गई पश्चिमी हिन्दी तथा अन्य सभी आधुनिकभाषाओं में संयोगावस्थापन्नरूपों का आभास मिलता है। यह दूसरी बात है कि किसी में कोई रूप सुरक्षित है किसी में कोई। पश्चिमी हिन्दी और अन्य आधुनिक आर्यभाषाओं की रूपावली में स्पष्टतः हम यही भेद पाते हैं कि उसमें कारक चिन्हों के पूर्व विकारी रूप ही आते हैं । जैसे—'घोड़े का' में 'घोड़े। यह घोड़े, घोड़हि ( घोटस्य अथवा घोटक+ तृतीया बहुवचन विभक्ति, ('हि'-भिः ) से निकला है। यह बिकारी रूप संयोगावस्थापन्न होकर भी अन्तरंग मानी गई भाषाका है। इसके विपरीत वहिरंग मानीगई बँगला का घोड़ार, और विहारी का 'घोराक' रूप संयोगावस्थापन नहीं, किन्तु घोटक+कर और घोड़ार+क-क्क से घिस घिसाकर बना हुआ सम्मि- श्रण है । पुनश्च अंतरंग मानी हुई जिस पश्चिमी हिन्दी में वियोगावस्थापन्न रूप ही मिलने चाहिये, कारकों का बोध स्वतंत्र सहायक शब्दों के द्वारा होना चाहिये, उसी में प्रायः सभी कारकों में ऐसे रूप पाये जाते हैं जो नितान्त संयोगावस्थापन्न हैं। अतएव वे बिना किसी सहायक शब्द के प्रयुक्त होते हैं।

उदाहरण लीजिये-

कर्ता एकवचन-घोड़ो ( ब्रजभाषा ) घोड़ा ( खड़ीबोली ) घरु (ब्रजभाषा नपुंसकलिंग )।

१-देखो 'हिन्दी भाषा और साहित्य' पृष्ठ ३२