पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/११८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


यावयन्त्र पातुन पन होते हैं एवं उसी प्रकार मरों में मापन, मधिक परिश्रम और सरसानको गायपमा ite रहने है। इसका HTETर अपेक्षाकृत अधिक छोरा होता इसमें मारिका यिन्यास न रहने कारण- मानुमान है, इसमें मूगायिहीन सामान्य सामान्य । मरस्याममें संघर्षण फरफ पहादि पर निकालमा की गस् मच्टी ताद पाईजा सकती है। इसका माकार पड़ता है। विशेष स्परपोष न रहने पर इसका बताना छोटा होने के कारण भरपन्त मृदु पषं धयणादायक कटिन रसोलिपे मालम पता है, इस वशानयाली. होता है। इस यन्त्रको याचन क्रिया कच्छपीको तरद हो की संख्या अधिक देखो नहीं जाती। होती है। इस यग्नफगाम और साकार भी समयभेद तथा रखनी गोया। नभेदी नाना प्रकार हो गई। रखनायोणा मदतीयोणाफे समान होती. मातर विपन्चो योगा इतना ही है, कि इसका डा पोसा न हो कर गाठा विपञ्चाका माकार प्रायः किम्मरीके, माकारफे समान पना रहता है और भाकारमें महती पोणाको अपेक्षा दी होता है। मन्तर सिर्फ इतना ही है कि इसका मोल यह कुछ छोर! दोती है। इसके दोनों पार्य में दो कर सिवारिका दो कर तिनलीकोकामना होता है। इसका रहने हैं। इसके सारोको संण्या मारा है। सारिकाil. जयपध, पारस, सर वाचन तथा पाइनक्रिया विनरोफे की संध्या पयं सारवधनादि फोफे समान होते है। . समान ही होती है। शारदी कोणा या शाद। । नादेशरीया शारदी योणाफे मुंठेस ले कर गोल सक रद्रयोणाको येइला भार मितान दोनों से मेरसे गादश्यरको तरह एक लकदीफे टुकड़े से बने होते है। साश उस्त है। मालूम होता है, यह आधुनिक यन्त्र है। अपरकी भोर पसला एवं नोचेकी मोर गोलफे पास चौड़ा । मा खोल येहन्ला प्रोलको तरह पयंस, सारिका, ताडेको मानरका जारी भाग पात मादि . मारसंण्या नया तारयरधन प्रणालो सितारको गनुरूप धातुमास महा रहना है। इसका मोल करेगे पतले चार दोती है। से बाच्छादित रहता है। इसमें सारिकार नहीं रहती। रीणा छोटियोंमें सिर्फछा सांस लगी रहती हैं। किसी किली. गद्रयीणा पोल भौर । एक अपएट काठके दो | शारदीयोणा तातफे परल पोतल प्रभृति धातुभावने : होते हैं। सा पोल पकरे. पमहे से गदा रहता है। सार भी ध्यपदारम लापे जाते है। पाक सपो गरगे म यस मा इम्तिदन्तादि कठिन पदार्थ का पगा एक इयानुसार ही इस यai ale या तार लगा है। उन सम्मामा बना है। रुद्रयीणा किमी प्रकारफे धातु. तातो पासारोंके मध्य एक मन्द्रमा पथम, मा. निर्मित तार प्रयास नहीं होते। उनपं. बदले इसमे६ मत पढ़ा, दो मसके मध्या पर एक al यार को जाता है। उग तातोएक मन्द. पशमायरमें पापा माता कानु यि विषयमा मापदापरु गांधार, RE EAR, RE मध्यसप्तर- फरक देखने पोय होता है, कि हालों की जगह मार पहन, पशुपम गौर एक पश्चासामे प्राधी भानी हो तातों में इस पन्द्रका कार्य प्रल सकता है.पो. ६। गड्यांपा मारिका मदारहती। म यन्त्र को इसमें दो दोala समस्याहगीरती है। Ir. पापम्परा र पहो ममीको घोरा बायाध बांटयोंकि मालायाम पासको बगरमें सात रया । होamil पार पापा उसावासाम्भाग | पर अन्याय नटियां होती। उt Time संपन से हुए शादिम हाथ मंगूठे करना धातुमो बने मार मगे रहो। म साता पूरी विकार की पठिन पदार्य पार कर all ति पा करते हैं। गायिका Train यापात मदानी वाया न पर पायम रहता है। हम तारो भापार करने की रोगोk Rो यादमा महतो घामादि कुछ मापरपरना नहीं होती, प्रधान सांतो में काम