पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/१२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वस्व मन कोजाम देताओंका तथा उसके मशान मौर। जो रतिपित मलमे नयपार पहननेग. पागारमे नरगना यान। अागिर तीन में फलाम हुमा करता है। किन्तु मतो गुगात या निवारण याम करते हैं। नपा या पुराना कपमा मान्ददरोममे भी प्रापको माहासे उन मागलो. पदि माली, गोबर या कोराहसे लिए दो अपया हिग्न, में मययन परिधान इटपलाद होता है। मरे सिवा प्रदग्ध या टिम हो जाय, तो सुपुत्र शुग या भाग - राजाका दिया मा पा पिपाद विभिलman मोग फल मा, माता या अधिक दोगको गम्गापना है। मां मुफलप्रद माना गया है, का तात्पर्य पाकि उसर गरमग प्रकार होने मे मो उक्त गुमागुम फल मावियाह, रामसम्मान तथा प्रायोको भागामे गुण. करता है। सका शो माग राक्षसाधिएन, यद टन. यर्जित मस्त मतमें गो मयवान पहना जा सकता प्रकारका होनेरी रोग या मृत्यु होती है। मनुष्य भाग हैं। (एम०५०) . पैसा होनेसे पुलाम तथा रोजको पक्षि पयं देषमाग पत्र दाग करने भर फल होता है। शुदिना. मा दोगसे मोगको वृद्धि होती है। रिम्नु प्रान्त माग में लिया है, कि यखदानको मलोक जागा गदिमा ही हो, तोगनिष्ट दोगेकी दो पिसमा जो प्रायोको उत्तम पार दाम करते है, wraft in. पना । के पथ मुलन्दित-गीवन मथा पल मो गम्य परिपूर्ण __परत्र. देवापिटल हिग गर्ने पदि का प्य होते है। उन्दूर, करीत, कार, मायाद गोमायु, पर, उद्र या सर्प ग्निपुराण. यम भार मिलीगण्यान रस पान. तुज्य गाकार दियातो पुरको मृत्युफे ममान मय पाना पुण्यदाय लिहा: विस्तार हो जाने के उfun होता है। पात्रफ राक्षमाधिएत घिग्न अंगमे : मयसे यहां पर गोलिया गया। छप, ध्यग, यति, यगाग, धोरस, शुन्य, मायुस : सर्वदेवायोको पूमा पनाम पावरपाकिल खीर तोरणमादिका माकार दिवादिनसे थोड़े ही दिनों, रिस पूना काम पार घिदिन या गिपिर मानानुसार में पुगेकममोलाम होता है। । पदमाग कर गदि देवदेश दाग लि.पा जाय या उसे मनुष्य शव मपपय पदनमे है. तब भग्द्र धिमो पाहग कर पता को जाप, तो मत पूमाता पालनाम नशागत दोन प्रभून परतलाम, मरणोगर दो प दोता। दरममप, हतियोगी अग्गिमप सपा रोहिणी गपुराण प्रियायोग माग मध्या frart. गा दोन प्रसिमितता है। मशिवा गुग. दुपल, पापाय पालाल मौर काम गादिप्रिय Pि पिमप, माया मक्षा प्रागन, पुनमुम भौर मुमार गच्छे पो पर ferr क्षाकरगो गुनागमन सपा पुमा पालाम दाता। मरने दोसो है। में पिलापमन मुट्यु. पूर्ण गन्गुनीमे रामए सपा नियम विष्णुराजा मोस्ट, रमपा मयि पात्र उस गुगी होता। दायाम कसरि पगमा निक्दि। पूजक पदि मौः सामान्य पिता गुमागम, स्याही गा गुमाएको प्रानि मिस यल nि कॉ, तो नाममा fa पिता दोनो है। मनुरापाशान् गमा- पीना पता | n rn m, it , मुमा cerम सपा पूर्ण निर प्रायश्चितपदा गया। पहभापरिक्षण पाटामा रोग न हो। बाद मा . TECIAL निपापो मने। Rea, UTI नगर, धनिष्टा धाराम मोरार भगवान मा free ENTEA FATA Teer होना है। पूर्व गोर यन्त्र न मेरों A IR, ITR भान पार भाRAREE TRE पुनराम मां मी पापमोर मा mumm trentinuink। IN HIRT गिन। परमाniri