पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/१८३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वायुविज्ञान पदले दूसरा किसी मूलपदार्थके वायुराशिम विमिश्रित कारोंनमन भक्साइड। ( Carbonmon oxide) रहने पर उसमें विष-क्रियासी भाशङ्का रहती थी। हम कार्यन और अक्सिजन मिल कर दो प्रकार यौगिक जो सर यान्त्रिक नाइट्रोजनमय पदार्थ (Nitrogenous गेस उत्पन्न करने हैं। कावॉन-मन अपसाइड और organic matter ) देख रहे हैं, इसमें सन्देह नहीं, कार्यानडाइ-अपसाद। थोड़ी हवा या चाय में कोयला पायका नाइट्रोजन हो उन सब पदार्थों की पुष्टि करता। जला देने पर उसमें समभावसे अक्सिजन मिल कर है। साधारणतः इम जगत्मे जो कुछ दग्ध होता कार्यान-मन अपसाइट गेस उत्पन्न होता है। पुन्ह। उस दहनक्रियाकै समय नाइट्रिक एसिडको उत्पत्ति पत्थर कोयला जलानेके समय यही गेस उत्पन्न होता होती है। कहे तो कह सकते हैं, कि वायुराशिम तड़ित् | है। यह गेस नील-शिखा फैला कर जलता है। नकिकी क्रिया भी नाइट्रिक एसिड उद्भुत होता रहता। इसमें एक भाग सक्सिजन और एक भाग कार्यान विध है। यह नाइट्रिक एसिड आकाशके मामोनियाके साथ | मान रहता है। इसीलिये इसका साङ्केतिक चिह्न 0 0 चिमिश्रित हो जाता है, तब नाइट्रेट गाव आमोनिया है। यह पाप्प स्वादगन्धहीन है। फिर यह भदृश्य भी है प्रस्तुत होता है। और जलमें गलनेघाला भी नहीं । दग्ध होनेके समय इसमे .... जर्मन ढाकृर स्कनविलने परीक्षा कर देखा है कि नीली लपट निकलती है। इस समय वायुसे अक्सिजन नाईट्रोजन गेप्स और जल एकन कर नाइट्राइट आय पा कर कार्योन डाइ-अपसाइहमें परिणत होना है। इसकी मामोनिया परिणत होता है । यह अक्सिजन सयो. परीक्षा यह है, कि कार्योन-मनपसाइतु यापपूर्ण वोतलमें से बहुत जलद नाइट्रेट भाव भामोनिया में परिणत होता एक जलती हुई पत्तो घुसा देने पर धतो तुरत हो युझ है। यह नानेट पृष्टिके साथ जमीन पर गिरता है। जाती है। किन्तु वोतलके मुम पर उक्त याप जलता उमो सयोगमे उद्भिदक मूलमें नाइट्रेट सञ्चित होता रहता है। है। उद्भिद्मूल द्वारा नाइट्रेट पदार्थ प्रवण करता है। ____ यह चार अत्यन्त विपमय है। सांससे शरीरमें • पूर्वोक्त प्रणालोसे जो नाइट्रेट अभूत होता है, उसको | प्रवेश करने पर शिरमे पोड़ा, स्नाययीय दुर्वलना जोर धेशानिक नाइट्रिफिकेशन (Atmospheric nitrilication) सज्ञादीनता होती है और ते क्या-इससे मृत्यु तका कहने हैं। इसके द्वारा उभिद् जगत्का जो उपकार हो जाती है। घरमें फायला या लफडी जला और होता है, यह सहज ही अनुभव होता है।.. कियाड़ी बन्द पर सोने पर फान मनपसाइउके प्रभाव मै मृत्यु तक हो सकती है। कई जगहोंसे ऐसो मृत्यु कार्यानिक एमिहा हो जाने के समाचार मिले है। इस रेशमें सूतिका गृहमें' वायुका एक दुमरा उपादान कार्यानिक पसिट माग रखनेको प्रथा दिखाई देती है। किन्तु सब किसी है। उद्भिज और जातिय पदार्थ दग्धायशेष गङ्गार को इस बात का ध्यान रखना चाहिये, फिकियाही वन्द 'नामसे प्रसिद्ध है। हम अङ्गारफी रासायनिक लोग कर कोयला या लकड़ोफे जलाने से मृत्यु तक हो सकती कार्यान नामसे पुकारने हैं। पार्योन या अहार एक मूल है। क्योंकि यह याप कमो फभी विषका भी काम पदार्थ है। होरा प्राफार दम महारया दुसरा रूप है। देता है। : । पापला जलानेसे अक्सिजनके साथ मिल कर कानिक कारन डाइअक्साइड (Carbon ViOxitle)| पमि उत्पन्न होता है। भूमि, समीम अनन्त बहार जोहो इस समय दम घायुफ हागि पपा { या को खानि मौजूद है। अङ्गारक सम्बन्ध में यहां हमारा माधारण वान में कार नियमित) विषयमे : कुछ और कुछ नहीं पाता है। कार्यानिक पमिर गेम' कहेंगे। इसका दूसरा नाम कार्यान-भान अपमाइट है। पाय का एक उपादान है। सुनरां उसोको मालोचना . १७७९ ई० लामोपाजीया हीरा जलाने समय कायो. प्रपोजनीय है। ' . ' निक एमिका माविष्कार किया था। इसके पहले मन्