पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/१८४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वायुविज्ञान १७५७ ई में धाकृर प्लेफने (लाइमष्टोन) चूने के पत्थरमें| मख्यक लोग एकटा रहने हैं, उस घरका द्वार बन्द कर इसका अस्तित्य भाविकार किया और इसका Fixed | देनसे उसमें अधिकतर कार्यानिक पसिंह गेस उत्पन्न hir नाम रखा। इसका पारमाणविक गुरुत्य ४४ है। होता है। साफ चूनेका जल घरमें रख कर उसको . विशाल वायुमें इसका परिमाण बहुत कम हो जाता। परीक्षा की जा सकती है। ...... है-२५०० भाग घायुमें एक भाग कार्यानिक डाइ दहनक्रिया । ... अपसाइट साधारणतः देखा जाता है स्थानभेदसे इसके | ____ङ्गार या तदुघटित पदार्श पाय में दाल होने पर . परिमाणका न्यूनाधिप भी हुआ करता है। उसका अङ्गारांश घायुस्थित थपिसजनके साथ मिल '. उत्पत्ति । कर कार्यानिक पसिडमें परिणत होता है। दहनमियाके शहरको वायुमे कार्योंनिक एमिह गेसका परिमाण | गाधिपसे कार्यानिक पसिडके उत्पादनके परिमाणको । अधिक है । मनुष्य प्रश्यास, पदार्शदहन (Combustion), | वृद्धि होती है। ( Putrelaction) और उत्सेनन ( Fermentation पनन क्रिया। . . . . नाना प्रकार कार्यों द्वारा वायुराशि अनयरत कार्यानिक ___ जीव जन्तु तथा उभिन पदार्थमात्र दो न्यूनाधिक पसिड गेस सम्मिलित हो रहा है। परिमाणसे गङ्गार मौजूद है। ताप और माता पचन. यासक्रिया और कार्यानिक एसिड गेस। क्रियाके सहायक है। इन सय पदार्थों के पचनके समय पीछे यह हम अच्छी तरह समझायेगे, कि श्यासः | कार्यानिक एसिड उत्पन्न होता है। कथान' मौर क्रियामें किस तरह कार्योनिक एसिड तैयार किया जाता जलीय भूमिकी ऊपरो घायुगे कार्यानिक पर्सिड पांच है। यहां केवल इतना फद रमते हैं, कि मनुष्यको देहके अधिक परिमाणसे (प्रति दश हजार 'भागमें सत्तर भीतर भी अङ्गार पदार्थ विद्यमान रहना है। उमी महार- भागसे नग्ये भाग तक सचिरा होता है ) हेगसे या .. पदार्थ के साथ अक्सिजनका सयोग होनेसे ही एक तरह- मोहरीसे जो दुर्गन्ध वाष्प उठता है, उसके प्रति का की मृदामो झिपामा (Oxidation) भारा होता है। हजार भागमे २००से ३०० भाग कार्यों निक पसिध. इसके फलसे कार्बोनिक पसिह गेसको उत्पत्ति होती ‘पाप विद्यमान रहता है। समय समय पर यह विपक्ति है। प्रभ्याससे यह याप निकल कर यायुमें मिल जाता घायु डान साफ करनेवालोंको मृत्युका कारण बन जातो मिनलिखित परीक्षासे यह साफ मामला है। पुराने कुए में भी कई कारणों से कार्यानिक पसिष्ठ कि निभ्यास और प्रयास वायुमें कार्यानिक एमिहफे गेसकी अधिकताया कूपमे साफ करनेवालोको मृत्य परिमाण किस तरह न्यूनाधिषय हैं। दो बोतलों में माफ | होते देखी गई हैं। चूनेका जल गम्तिये । रयड और लकडोका मल बोनलोंमे उत्सेचन (Fermentations इस तरहसे लगा दीजिये कि गलके द्वारा श्वास लेने पर | । गुड़, ययादि भन्न और गूरका रस-पकनेके समय एक यातलफे बीचसे भाकाशकी यायु प्रयेग कर सकती | कार्यानिक पसिष्ठ गेस उत्पन्न होता है। शराब तैयार हो भौर नलसे श्यास त्याग करने पर दूसरी यातलफे करनेवाले कारखाने में भी कार्यानिक पसिस गेसका परित वीबसे प्रश्वास घायु निकल सकती है। इस तरह मलसे मा अधिकता दिखाई देता है। . फर पार ध्यास लेने और छोड़ने पर दिखाई देगा, कि योतलमे यादरको याय प्रविष्ट हुई है भीर उसका चूना कार्यानिक पसिट मपृश्य वर्ण. और गग्यविहीन मिला हुमा जल यान कम परिमाणमें घुला हुआ है। याप्प है। यह दादा नहीं और न दास को है। ३६ किन्तु जिसमें मिभ्यास परित्याग किया गया, उसमें अपरिचालक है। जलती हुई पत्तोसे इसको परीक्षा की Fिuत जल दूधको तरह घुल गया है। कार्यानिक एसिट! जा सफनी हैं। कार्यानिक मिट गैससे परिपूर्ण पक, गेसर्फ स्पर्शम घनेका जाल घुलता है। जिस घामें बहु। योतलमें एक जपना हुई यतीको घुसेड़ने पर यद बुझ्न