पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/२२०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१६४. वार-वारणावतं ११ पाण: तोर। १२ मदिरा-पान; मयका प्याला, हायसे रोकना। (पु० ) यारयति परयलमिति का १३ निवारण, रोक। १४ जल, पानो। १५ पित्त । १६ ५ हस्ती, हाथो। ६ वर्ग, कवन, पचतर । दुरा।। कालाफेश । (फ in.) १७ वारो, दांया १८ छ। ८हरितालकृष्णशिंगपा, काला सोसम | १.पालि. (नि.)१६ परणोय ।' (भूक १२८३) भद्र। १५ श्येतकूटज पृक्ष, सफेद कोरेयाका फूल। . पार (सं० को०) यारयति विपने घेति यूणिच् किम् ।। १२ छप्पय छन्दका एक मेद । इसमें।४१ गुथ, ७० मधु, १ जल, पामी। २ सुसज्जित भावमें अयस्थान ठाटयाट कुल १११ वर्ण या १५२ मात्रा होती भया सिंघाना। गुण, ६६ लघु, कुल १०७ वर्णी या १४८' मासाए पार-एक प्राचीन कपि । होती है। पारक (सं० त्रि.) यारयति पृ-णिच् ण्वुल । १नियारक, (नि.) यार-रण अच्; यारिजले रणति पातीति ।' निषेध करनेयाला। (को०)२ कष्टस्यान, पद स्थान १३ जलजाट, समुद्रामव । १४ प्रतियग्धक, रोकनेवाला। अहां पीड़ा हो। ३ याला, सुगन्धयाला, एक सुगंपिन | धारणफणा । म स्रो० ) गजपिप्पली, गापीपल । तृण । (पु.) ४ मध्य, घोड़ा । ५ अध्यभेद, एक प्रकारका पारणकच्छ (स.पु०) एच्छ भेद। इसमें एक महीने ' . घोड़ा। ६ मध्यगति, घोड़े का फदम । | तक पानोर्मे जोका सत्त घोल कर पीना पड़ता है। पारकन्यका (सं० स्त्री० ) चारनारी, पेश्या, रंगी। यारणकेशर ( स० पु० ) नागकेशर । '. पारफिन् (सं० पु०) यारकोऽस्त्यस्येति इनि । १ प्रतिधारणपिप्पली (स० स्रो०) गतपिागलो. गपोपस। पादी, शन । २ समुद्र। ३ चित्राव, लड़ाईका घोड़ा। यारणप्रतियारण (स० सी०) १ कर्मादि द्वारा शीतल, ४ पणंजीयो, पत्ते सा कर रहनेवाला तपस्वी। रक्षापयोगी, फायशिष्ट । (पु.)२ गारक्षण, हाथोकी पारको (सं० पु० ) पारकिन देखो। रक्षा करना। पारफोर (सं० पु० ) पारे अयसरे कोलति वध्नाति कौतु- यारणयनेश शास्त्री-अमृतसति मानो प्रकिाकीमुदी फार्य उज्या प्रेग्ना या कोलक, लस्य रत्वम् । १२पालका, ' व्यागाफे प्रणेना।। साला ।२ घारमाही; मारवादी, योग दोनेवाला | ३ द्वारी, बारणयल ठगा (सरसो० ) कदली, पला । द्वारपाल । ४ याइय, याहयाग्नि । ५ यूका, जू । ६ येणिः चारणयुपा (म० लो०) वारणान पुष्णातीति पुरकर घधिनी, घेणो वांधनेकी छोटी कंघी । ७ युद्धाश्य, लड़ाई। पृपोदरादित्वात् यस्य वः । परलो, फेला। . का घोड़ा। यारणशाला (सं० सी०) हस्तिशाला, फीलमाना। पारगड़ि-चम्पारन मन्तर्गत एक प्राचीन प्राम।' पारणसालय (सं०सी०) गजसाहय, दस्तिनापुर। __(भपिन्य-पाल ४२१२११३१) यारणसों (सं० रनो० ) यरणा च गसी ग्र मोदय सत्प पार (सं० पु०) पक्षी, चिहिया । गरे भया। । भरभवान। पा ४२१७.) पण डोप. यारह (सं० पु०) यारयतीति मगच (यान्चो दिर पृषोदरादित्यात् साधुः। पाराणमी, काशी। उप ॥१२१)ति धातो शिर सग, या सुरिकादिक यारणस्थल (सं०० ) रामायणोक्त जनपश्मे । । मुस्,ि तलवार हुरी भादिको मूठ ।' २ फुफे माकार. (समा२७) का एक मांजार। इससे चिकित्सा मस्थिपिनट गल्प | यारणा (सं० खो० ) पारण राप् । कसी, पेला। निकालते थे। (मभुत) यारणानन (सं० पु. गजानन, गणेश। यारर (सो०) गरम् ।। १ क्षेस। क्षेससमूहयारणायस (सं .) महामारतोस माघीन नगर। पारटा (स.मो.) पारट राप्। परटा, ईसी। यह दस्तिनापुरसे ले कर गहामं किंगार ताघिस्न था। पार ( Hi०) जिस । । प्रतिषेध, निधारणा यही पर दुर्योधनने पाइयों को लाने लिपे RIT २वायन । इनिपेध, मनाही। ४ दस्त द्वारा निषेध, नयापा था। नीम उस गृहको जला-राना मोर