पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/२२९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


• क्षप। वारिपालिका--वारिवाहिन 'अलम्मी । २पानीको काई। यारियाँ (दि० सी० ) निछापर, पाल । पारिपालिका (सं० स्रो०) पारोणि पालयति सूर्यरएम्या- | यारिरप ( स० पु०) वारिपु रथ इव गमनसाधनस्यात् । दिभ्यो रक्षतीति पालि घुल-टाप्, मत इत्यं। समू, भेळक, येड़ा। लिका, माकाशमूली, सिंघाड़ा। पारिराशि (सं० पु०) वारीणां राशयो पत्न। १ समुद्र । पारिपूर्णी (सं० स्त्री०) वारिपर्णी, जलकुम्मी। यारोणां राशिः। २ जलराशि, जलसमूह । पारिपृश्नी (सं० स्रो०) पारिजाता पृश्नी। पारिपर्णी, पारिरुह ( स० क्लो०) पारिणि रोहति जायने इति यह जलकुभो। | (गुरुघशाप्रीकिरः का। पा३।११३५) इति क । १ कमल, पारिप्रवाह (सं० पु०) धारिणः प्रयाह। निर्भर पा । (नि० ) २ अलमात, जलसे उत्पन्न । पारिप्रसादन (सं०क्ली०) वारिणाप्रसादनं । काकफल, यारिलामन् (स० पु०) पारिणि लोमानि यस्य यद्वा पारि निर्मली। यह जलम देनेसे जल निर्मक हो जाता है। | लोम्नि यस्प। घरण। वारिषदर (सं० पु०) यारि परिपूर्णो बदर इव । प्राचीना | वारियरन । सं० क्ली। पारियुक्त घदन यस्मात्, सत्. मलक, जलगांवला। सेयने मुखे जल निभावणत्तथास्य। प्राचोगामलक, पारियदरा (सं० रना) पारिवदर देखो। जलकुम्भो। पारिवाली ( स० स्त्रो०.) पारिजाता ग्राहो | जलमाझी. यारिवन्द-१ आसामके भरतर्गत एक स्थान । ( भयिच्या 1 ०७० १६३१) २ कोचविहारके उत्तर, अवस्थित एक यारिमतयटिका (सं० स्रो०.) आजोणाधिकारका औषध. वड़ा परगना। विशेर । प्रस्तुत-प्रणाली-पारे गीर गन्धकसे तैय्यार को वारियम्धक (सं०नि०) जिससे जलघोत रकमक, बांध । हुई कजली, गवरक, गुलश्चका पाल, विडङ्ग गौर मिर्च यारियर ( स० लो० ) करमईक, करी ।। प्रत्येक समान. भाग ले कर अदरकफे रममें मिलावे। पारियर्णक (म फ्लो० ) अलका पर्ण, पानोका रंग। बादमें एक माशेको गोली बनाये । इसका सेवन करनेसे पारिपलभा ( स० स्रो० ) विदारी, भुकुम्हड़ा। मजीर्णरोग दूर होता है। (रसरला०) वारिवद (म० सि०) जलग्रहनकारी, सल ले जाने. यारिभव (सं० लो०) पारिणे मेलजलाय भवति प्रभयतीति याला। भूगच । १ घोतोऽअन, सुरमा । (त्रि.) २ जलगात. पारिवली (सखी०) कारयलो, करेला। माया पारिवालक ( स० लो०.), सुगंधवाला। पारभूमि-स्वर्गभूमिके अन्तर्गत स्थानभेद । पारियास (सपु. ) धारिमापे पासऽस्य, यदा पारि (भविध्य प्रदाख० ५॥१२.) | यम्य पिताम्नादिजल' पासपति मुगन्धि करोनोति पास. पारिमसि (सं० पु०) यारि मसिरिय श्यामताजनक यम्य, अण। शॉपिक, कलवार। सालमेघस्पेय कृष्णवर्णत्यात् तपाय । मेघः। (त्रिका० ) | पारियाह (म.. पु०) पारि घहतीति यह (कर्मयपाए । पारिमान' (सं. ) पाचनादिमें जलका परिमाण, २१) इति गण । १ मेघ, वादल | २ मुस्तक, मोधा। किस पारनमें कितना मल देना चाहिये उसका यारिगाह समाद्रियणित पक राजाका नाम । भन्दाजा। (समा० ३१११५). पारिमुन् (स.पु.) पारिमुशतोति मुच किए। मेघ, यारियाइक ( स० पु०) अलपहनकारो, यह शो जलले जाता हो। पारिमूली (स.सो.) पारिणि मूल पस्या न.पाका- | पारियापन ( म०३०) पाहयतोति पाहि व्यु पारीणां पति पाut.) इति को ।यारिपर्णी, जलकुम्भो । पाटना । मेघ, बादल। पारियात (Ri.in ) जलपान, फौमारा . पारियादिन् (स' लो० ) जलयानकारी।