पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/२६६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वासकों-वासन्ती यासाणों (सखी०).यावाला। .यासतेयों ( स० स्रो०) राति, रात । पाकमजा ( स्रो०) यासके प्रियममागमयामरे सज. यामधूपि ( पु.) यसपका गोतापरय। नीति मा ाच साप, यमा यामर्फ यासवेश्म सजतीति वामन (स पलो०) यास्यते इति.यासिलपुर : मति भण-टाप । नायिकाभेद गनुमार एक गायिका। सुगन्धित करना। २ वारिधाग्य, सुगन्धित पाना . जो नायिका मायकमे मिलने की तैयारी किये १५ घर ३ पत्र, कपड़ा। ४ चास। ५शाग निक्षेपापा, आदि मला कर घोर आप भी मज कर येउनी । उमे . (ति) ७ सनसम्मन्धी, कपड़े का। पपनेन मो . थामकसना करते हैं। । यसन ( समानविंशतिकसयसनादय ।पा ५॥१॥२५)नि जो नायिका घेशभूषा करफे और घर गादि सजा अण्। ८ वसन द्वारा कोत, कप से परोदा मा! .: कर नायकको बाट जोहती है उमाका नाम चासक- घासना (मनो०) पासपति कर्मणा योजयति जोय.. मन्ना। मनातीति वस-णिच-युच, टाप । १ प्रत्याशा । २सान। . इमको चेष्टा-मनोहरसामग्री ममोपरिहास, दुती ३ स्मृतिहेतु, भायना, संस्कार४ मापके भनुमार प्रश्न सामग्री विधान और मार्गबिलोकनादि। देहाटमबुद्धिजन्य मिथ्या संस्कार ! ५ दुर्गा। (देगे . (गीतगोपिन्दर) ४५०) ६ गर्क को खो। (मागयत ६।६।१३) , यह यासकसजा मुग्धा, मध्या, प्रौढ़ा और परमीय कामना । नायिका भेद गिन्न प्रकारको है। घासनामय ( स० ति० ) वासना स्यरूपे मपट ! यासमा यामजिका (स. सी) पासासजा। स्वरूप यामका ( स० स्त्री० ) घामक-राप यासक पक्ष, वासनालय (संपु०) नागवालोदता घरमा यासन्त ( स० पु०) वसन्ते भयः वसन्त (सन्धिमापन याम.ट (१० पु. स्त्री०) प्रकारको छोटी यंडी या कमर क्षत्रेभ्योऽण । पा४३१६) इति भण। १ । ' ताको पुरतो । इससे सिर्फ पोट, छाती मोर पेट ढकना , २ कोकिल, कोयल । (राजनि०) ३ मलप यायु । है। इसमें भास्तोन नहीं होती, भागे भोर पारे के कपड़ों. . ४ मुद्ग, मूग। ५ कृष्णमङ्ग, काली मंग। ६ मदनः में भेद रहता है। इसे कसने के लिपे पीछे वकमुधार हो, वृक्ष, मैनफल। (लि०) ७ भयदित, सायचान । बन्द होने हैं। ८पमन्तोप्त, सम्म मतमें वोया हुमा।. पासपूर (सं० स० ) यासाय गृहवं गृहमध्यमागे । (सिमान्यामु) . शपम नगृहात हे प्रत्येके निर्शनस्यात् गया. घासत्ता (म.लि.) घसन्तस्येमिति घमासान गारं गर्मागारं ! १ गागार २ शयनागार, सोनेका "र, सानकायसम्न सम्बन्धो । यसन्त 38 (मोदमयन्तापरला. .. . कमरा।३ मरतापुरगृह, रनियामा पा ४।२।४१६ ) इति युध् । २ यसरतोस, वसन्त में याममेह ( 0) यामगृह, मझाम । बोया दुमा यासत (संपु०) पास्यते इति पास शादे वाहुल कात् । पासस्तिक ((स.नि.) यमतमधीत घर पति यान । मनम्। गम, गदा (रत्ना०) पासताम्यूम (सल0) सुगन्धित ताप्ल, सुशयूः . (वगन्तादिम्म एक पा ४२५३) इति । पिपर, ३ , मांड। २ गरीक, मायनेयाला ! (लि ) PARTY, . दार मसाला दे मालाहुमा पान यासतोपर ( सि० ) पसतोपरी गामक सरसन्न. ) मिति म ., मिति ( मगन्ताच्च । पा४।२०) इति ठम् । ३ पभा धोय। सम्बायी। . . .. पाम ( R०) यसमा साधुरिति पमति (यतिथि यामसी (मनी) यमातम्यनिति या मन .. मति २। पा१४) इति उन । यास- छोप। १ माधयोलना । २ गूगी, जूही। पारना, योग्यसनेमापक। . . पारका पक्ष । ४ कामोमय, मनोरमय पाप-त्रा :