पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/२९५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वास्पपोत-वाहक २९७ किसीने हस्तक्षेप नहीं किया। सन् १७८२ ई० में माझिस । अमेरिकामें उपस्थित हुमा । इसके बाद तगामी जहाज डी० जुमय जोनाथान धानके प्रस्तावको कार्यारूपमें | तय्यार हुए । इस समय लियरपुलसे अमेरिकाके न्यूयार्क परिणत करनेमें प्रयासी हुए। इन्होंने एक छोटो टीम तक जो टोमर आते जाते हैं, उनमें कई १० दिनमें ही वोट तय्यार कर सोननदीमें डाल एक अभिनय नाच | पहुंच जाने हैं। सन् १८८३ ई० में बना "अलस्का" और चलानेकी चेष्ठा की। किन्तुं उनकी यह चेष्टा फलयतो "अरिसम" नामक टीमर लिधरपुलसे सात दिनों में हो नहीं हुई। सन् १७८७ ई० में स्फारलेएडफे मन्तः न्यूयार्क में पहुंच गये। अलस्का टोमर इस तरह सुन्दर पातो डालस उनटन निवासी मिटर मेट्रिक मिलरने एक रीतिसे परिचालित होता था, कि इसके आने जानेके पुस्तकमें एक घोषणा प्रचारित की, कि वे टीम एजिनमें | निर्दिष्ट समयमें कभी पांच मिनटका भी फर्क नहीं साहाय्यसे नाय चलायेंगे। इस पञ्जिनके चपके भी रहेंगे। पड़ता था। वाष्पके वलसे चषका घुमने लगेगा और इसके फलसे वास्पेय (सं० पु०) नागकेशर । ( रनमाता) नाव चलने लगेगी। विलियम सिमिटन नामक एक तरुण पास्य (स० वि० ) वास-यत्। १ आच्छादनीय, ढकने वयस्क इजीनियर द्वारा उन्होंने यह यन्त्र तैयार कराया लायक । २ निवासनीय, रहने लायक । था। डालतउनटन झोलके निर्मल सलिलमें मिष्टर | वास्र ( स० पु०) दिन, रोज । वाम देखो। मिलरने इस तरह नाव चलानेका कौशल दिखाया। वाकिटि (स० पु०) चारो जलस्य किटोः शूकरः। सन् १७८१ ई० में इन्होंने एक यह आकारके टोमरमें | १शिशुमार, सूस नामक जलजन्तु । यह यन्त्र सत्रिवेशित किया। इस टोमरने घण्टेमें मील | वामदन (स'० प्ली०) यारो दलस्य सदनं । जलाधार । पथ तय किया था। इसके बाद सन् १८०१ ३० मिटर बाह ( स० पु०) उह्यतेऽनेनेति यह करने घन्। १ घोटक, सिमिटनने एक टोमर सप्यार किया। यह टोमर क्लाइंड घोड़ा। २ पृप, बैल। ३ महिप, भैसा। ४ वायु, .मदरसे ाया जाया करता था। - किन्तु क्लाइड नहरका था। ५ चाहु। ६ प्राचीन कालका एक तौल या .किनारा टूट जानेके भयके कारण अधिकारियोंने रोक मान। चार पल (८ तोला=१ पल)का एक कुड़व, दिया। ४ कुड़वका एक प्रस्थ, ४ प्रस्थका एक आढक, ८ भादक- ... अमेरिकाके एक इञ्जीनियरने स्काटलेएडसे योमर को एक द्रोणी, २ द्रोणीका एक सूर्प, डेढ़ सूपैकी एक बनानेकी कलाको सोख सन् १८०७ में सबसे खारी, दो सारीकी एक गोणो और ४ गोणोका पक पाह पहले डसन नदीमें टोमर चलानेको चेष्ठा की। सन् | होता है। १८१२ ई० में ग्लैण्ड में टीमयोट प्रचारित हुआ। पहले / . अमरटीकाकार स्वामीके मतसे ४ मादकका एक द्रोण, टीमर 'कमेट' नामसे प्रसिद्ध हुमाथा! मिटर हेनरीवेल १६ द्रोणको एक बारो, २० द्रोणका एक कुम्भ और १० इसके निर्माता थे, इसमें जो वागीय यन्त्र था, यह चार | कुम्भका एक याह माना गया है। घोहे का पलवाला था । सन् १८२१ ई में लण्डनसे लिये प्रवाह । ८ वाहन, सवारी। (नि.) वाहक, तक टीमर द्वारा भाना-जाना जारी किया गया। । लाद कर या नीच कर ले चलनेवाला। सागर पार करने के लिये इस समय सहन सहन टोमर घाह (फा० मध्य०) १ प्रशंसासूचक शब्द, धन्यवाद। कभी तैयार किये जा चुके है, किन्तु सबसे पहले अमेरिकासे | कमी अत्यन्त हर्ष प्रकट करनेके लिये यह शब्द दोबार हो एक टोमर सागर पार कर लिवरपुल माया था । इस- भी भाता है। जैसे, याह, बाद, आ गये। २ माश्चर्य- का नाम पा-सभाना' । अमेरिकासे लएडन तक माने, सूचक शब्द। ३ घृणाघोतक शब्द । ४ आनन्दसूचक में इस टोमरको २६ दिन लगे थे। इलैण्डके सर्वप्रथम शब्द! . . समुद्रगामी पापीय जहाजका नाम सिरियस ( Sirius) याहक (सं०नि०) यहतीति वह-प्युल । १ वहनकर्ता, यो था। सन १८३८ १०में सिरियस लएडनसे १७ दिन में। ढोने या लींचनेयाला। (पु०) २ सारशि , . - Vol, xx1, 65