पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

बगोगम-बाग्दुष्ट पागोशम-पाटकारमबरी मौर मलयादक रचयिता यागुलिक (स.पु० ) यागलि स्था) गन् । घागीमा ( सी) यांचामाशा। सरस्वती । वागुन देरो।। मागीयर (स.पु.) पाबामोभ्यर इय | १ मन्जुघोष याजाल ( स० ) पागेय मालमिति रूपफकर्मघा० । योधिसत्य । २ जनविशेष। ३ गृहस्पति । ४ ग्रहमा | बातोंकी लपेट, बातोंका आरम्यर या भरमार | (त्रि.) ५याफ पति, मच्या पोलनेवाला। यगाम्यर ( स०ए०) पापपरा , भातको सपेट। यागोचर-नानमनोहर प्रणेता महरे. समसामयागदएड (म.पु.) यागेर दण्डः। ' मला पुरा कहने. यिका कषि। ३ का प्राके रचयिता। का दण्ड, मालिक दण्ड, पोट पर। पागोयरकीति । स पु०) . साचार्गका नाम । वागद (स.लिक) पाचा दत्तः। यार पारा दस, पागोश्याम-काध्यमदीपोधातक प्रणेता। 'मुदस दिया हुमा। पागोयरी (संती ) बारामांवरी। सरी वागदत्ता (सस्त्री०) याचा दसा। यद कन्या निसर्ग यागीश्वरीदत-पारस्करगृहासूनव्यारुपा रययिता। रियादको पात फिसोफे साथ ठराशा चुको हो, संयम पागुमी (सं० जी०) सोमरानी, याकुचा विचार संस्कार होना बाकी हो। पूर्णकाल में ' घागुआर ( स पु०) एक प्रकारकी मछली । गी, किन्याका पिता जामाताके गामा कर कादना पागुण ( म०पु०) १ फ.मेरड, कमरम्म ।२३ गग, भांटा। था, कि मैं अपनी कन्या तुम्हें दंगा। कल इस यागुत्तर ( सं ० ) यफ्ना पीर उत्तर । प्रकार तो नहीं कहा जाता, पर घरछा या फलदानका पागुरा ( खो०) यातीति वा गतिमधनयोः ( मद्गुरा । रीता बढ़ाया जाता है। दपरच! उण १।४२ ) इति उरच् प्रत्ययेन गुणागमेन घयागी सनि.) यानि दरिद्रय मितापी, साधु। मृगोंके फसानका माल । । धोया योलनेवाला। चागुरि (म' पु० ) प. प्रसिद्ध मिल्यचित् । । यागदल (मो .) याचा पगिय ! मोठाघर, मोट। थागुरिक (म. पु. ) यागुग्या घरतीति यागुरा ( चरि। "यादान ( स० लो०) पाचां । यापपदान, कम्पाक पा.८) इति ठक । मुगापाय, दिम मानशाला पिताका किसीसे जा कर यह कहना कि मैं अपनो कन्या शिकारी। तुम्हें यादगा। पादाग. पहले कन्याको मृत्युको मालिसपु०) शानदार, दिया। शानेसे सप वर्णो । एक दिन शशीच होता है किन्तु यागुलिक ( पु.) राजाओंका यह संया जिसका । पाण्यानफे पाद अगर पन्याको मृत्यु हो जाय, मोपामा कुल . काम उगको पाम पिसाना होता है, गया। । सांस् पित मोर भस पुरसमें तीग दिन मशीनोगा। यागुम (RJ० ) एक प्रकारको मानी। लेकिन माज फल पादान न रहनसे विवादफे पहले तक पागृपम (सं.) प्ररए पना, शिशपाती। पागोयान (म.पु. ) नदीपा जिला प्राममंदा • कम्पाको मत्यु देनेने एक दिन जान मारनामा ( ) यामुष्ट ( स० लि. ) पागा शुभेऽपि पस्नुनि पERT. पागल । मं०) १५ पपारा २ माईन्भेद। स्वादुपियेन दुः। परमापी, मापी अमित पार ( पु.) पाया गोदा पोलोयति गुदः शत, मिस पिसीने शाप दिया है, शिम किमीने फारस कौशाया। पाप्रमालाक्षो। नुस्मुशिी टिपाता। मनुमापार मेघानिषि मासे पर मर मिया. है.हिजो गु गुराता है, यह मरे पागुर पो पादो। पादुए रहने । ना। ___यादुधः पावो मिस पपे' ( क) शानि (म.पु.) यागा गुग wiin गुः (. याना दुमा पानुनमा (मेभाग) rani । उ १११८ नमानसमापनो: पादुर प्राय गोप माना गया है। दयाम मा पान मिलता प्रापश्यपियर :, ir. मागपुर मदियो