पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/३४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


. पाचसत्य वाच्यार्थ योग, न्यायकणिकाविधियिकटीका, न्यायतच्यावलो , याविक (म. लि०) याच ठप । १ पापो सम्बायो। न्यायरमाटीका, न्याययातिकसारपर्यटोका, भामती या वारी. २ वाणामे किया हुआ! ३ मतसे कदामा () रक्रमाय विभागादि प्रमश लिये। मायमानाने सर्य, ४ अभिनयका एक भेद जिमा यल वापरण्याम समें, पर्वमानने म्यायफुमुमालिप्रमाग व्या द्वारा गभिनयका कार्य सम्पन्न होता है। गरमियने पैशेषिक मनोरस्यार. गो इनका मत उद्धृत मानिकपन (सी .) याचिकम्य मादेशस्य पक्षम्। किया है। ८८ जागे पनका न्यायसूचीनिय शेर लिपि। २ मम्बाद-पत्र। हुमा । मयदेवमा भौर परिवर्भदेव देश । ४ भास्कराचार्यगत याचिकहारक (म.पु.) यानिशम्प मारहारक। सिद्धान्तनिरोमणि प्रत्यफ एक रोडाफार। लेखन। २दूत। . यायमस्य (सं०सि० ) पृहस्पतिका मनमान्यीय पानी (म०नि०) १ पापपयुम। २ सूरक, मार पारस्पति दयपुणेदितानुता यागपत्या ! २ पुगेक्षित. परगाला, योध करानेवाला। यह शाद समान कर्मका। "परस्पाताई ये दयानां पुरिनम्तमन्यन्ये समस्त पद अन्तमें मानेसे गाना मीर विधायक मनुष्याणां पुरोदिना इति प्रामणे या या सुभृत अर्थ देता है। जैसे,--पुरपगाची-पुरण्याचा यिमतोंति मन्दप्रस्पतिपदम्प पमनात " यानोयुक्ति (मसि०) यानि यापे युक्तियस्य । {महाभारत १३ प नीलकपठ)' १ घामी। (ग्रो०) यामो ययमो युक्तिः (पागरिक याचा (मो०) यायप, यमन, नाम। २ याणी।। परपझपो युक्दिया । १६३२१) निम्प यातिकोपरयो यामाट ( म०सि० ) कुस्मित पटु भापते इति पाच: पाठ या मानुक । २ पापागे युक्तिवाना ( भानगा ये मागिदि। पा ५.२११२५) इति गारन् । ' पाचोयुक्तिपटु (म० लि०) गायो गुरती यारदर्शिता १ यागाल। २ वाली, यादी। पाये पटुः । पाग्मी। यामागस ( म.मी0 प्रतिमापन । गाय ( स० वि० ) उच्यते इति पग पम्, पोशा. पानापल (म. पु०) प्रतिशायर, पना देने कारण संतापदि ग कुत्य । १ कुरिमा। २ होना पर पिया, गादे पंधा हुमा गाई, मदने योप। ४ मभिधेय, अमिधा द्वारा जिसका यानापमान (सपु०) प्रतिहार होना। योधतो. शरसंघ द्वारा लिमका पोश। हिस यामागम ( म००)काका गाम्मा २ यगाम द्वारा योध होता. उसे 'या' मोर शिम यातु. पागका पोध होता है, उसे 'यार' पहने है। मो.) पावाल (म.वि.) पर कुश्मिन' मामगं पति यान पर पाम् । ५ गतिधेयाय। ६ मनिपायन । पापाता । (पा ११२।१५) पनि बारम्। पापड, यो घान्यता (मो .) पारुणस्य गायः तम्-टापाय, ME | २ पाया गर्थ पाया।। पासका गाय या धर्म। पानामा (मो .) पायासस्य मापा टाए। पापलिङ्क (स'०शि०) पिरोपका अनुगन । विशेषत -मापिता, बगुन माना। 2ीत पद स्पारन गियमानुसार पूर्वपदको पार भार मिपुता लिङ्कका मनुगत होता है। मायामिना लि.) या नियमगनाला पालिहा(गविल) पायनिहापिनि गाचाल ( fro) पापपमे पहा, जो बानी , यानिय (मी.) यापतिमा। पहा (पु.)२ मोद६ मायना गनुमार देश, पास्यापम ( पु.) या गोत्राश्य। गरमे (प .)

NIRMR)

पापEntri fan पर AARTI am ( पु.) म्प Amar गमि at . (१ ) को मिल द्वारा Air writ