पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/३४९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विषतविचक्षण २९६ को अन्नदान कर स्वयं गयशिए भान भोजन करते हैं। । विघ्नजित् (सं० पु० ) विननायक, गणेश । विधान (i० पु०) विशेषेण हननमिति वि-हन घण। विमनायफ (० पु०) विन नां नायक विवाघाश्यात्यात् । १ प्याघात, विन, वाघा २ माचरात, चोट । ३ विनाश || गणेश। ४ विफलता, सफल न होना। ५ विध्वस्त, तोड़ना | यिननायक (सं० पु०) शिनानां माशः | गणेश । फोड़ना। विननाशन (सं० पु. ) नाशयताति नाशना विमानां विघातक (० वि० ) १ व्याघातक, विघ्न डालनेवाला। ] नामनः , पष्ठोतत् । गणेश । २ आघातकारो, चोट पहुंचानेवाला । ३ विनाशक, हत्या विनानि (सं० पु.) गणेश। फरनेवाला जिनप्रिय (सं० छो०) ययकृत ययागु, जौकी कोजो। विधातन { 0 लो० ) वि-हन-स्युट । १ विनाश, हरया-विमराज ( स० पु. ) विघ्नानां राजा, ६ तत् । करना । २ आघात, चोट पहुंचाना। गणेश। विघाती (सं० वि०) १ नियारक, रोकनेवाला।२घातक, विनयत् (सं० लि. ) विघ्नपिशिष्ट, विनयुक्त। हत्या करनेवाला। ३वाधादायक, वाधा डालनेवाला। विनविनायक (स.पु.) विमानां विनायक गणेशा ४ गट। ५ च्याहत, मना किया हुआ १६ ध्यस्त, तहस गितहस्त ( स० पु०) १ गणेश । (नि.)२ यिनहर्ता, गदस किया हुआ। विन हरनेवाला। विघूणिका (सं० स्त्री० ) नासिका, नाक । | विनहारो (सपु.) १ गणेश । (नि.)२ विघ्नहारक। विघूर्णन (सं० पु० ) चारों ओर घुमाना, चक्कर देना। | विनाधिप (सं० पु०) गणेश । विघृत (०नि० ) रसोपेन । (भूक ३१५४६) विनातक (सं० पु० ) विधानामग्तका । विनर, गणेश । विघ्न (Et० पु. लो०) विहन्योऽनेनेति वि-इन क; पनय क- विधानम् ।। पा ३१३१५८ )१ व्याघात, अड़वन, खलल । विनित (सं० वि०) मिनो जातोऽस्प तारकादित्यादितच । , संस्कृत पर्याय-अन्तराय, प्रत्यूह । ( अमर ) २ फूण- । जातविघ्न, जिसके विघ्न उपस्थित हुगा हो । फला। (शम्दनन्द्रिका) | विनेश (२० पु०) विघ्नानामोशः । गणेश । यिक सं०नि०) विनर, वाधा डालनेवाला। विघ्नेशवाहन (सं० पु.) विघ्नेशस्य पाहनः तत् महा. यिनकर (०नि०) विघ्नं करातीति विन कटावित। मूविक, गणेशका वाहन, चूहा। कर्ता, यिन करनेवाला। विघ्नेशान (सं० पु०) गणेश। वितकरी (म०सि०) विघ्नकर, बाधा डालनेवाला। विघ्नेश्वर (० पु. ) विघ्नानामोश्यरः । गणेश । यिकारी स० वि०) विघ्नं कत शीलमस्येति, प-णिनि । विघ्नेशानकाला (सं० स्त्री०) विघ्नेशानस्य गणेशस्य १ घरदर्शन। २ निघाती, वाधा उपस्थित करनेवाला। कामा प्रिया, तत्पूनायामेनस्याप्राशस्त्यात् । श्वेत- विकृत (स० वि०) पिन करातीति विक्षक-मियप। दूर्वा, मफेद । यिनकारी। पहलमहिनामें लिखा है, हिकार यदि वह विस (२० पु०) गश्वरपुर, घोड़े का खुर। गोरसे प्रशिलाम गतिमें शद करता हुभा चला जाये, वियक्ति (सं० वि०) घबराया हुआ। तो यात्रा घिन उपस्थित होता है। विवकिल ( स० पु०) १ मलिकामेश, एक प्रकारको फिर दूसरी जगह लिग्ना है, कि कुत्ता यदि दात घमेलो । २ दमनक वृक्ष, दौनेका पेड़। माल कर मोठ चाटे, तो देखनेवाले को मिएमोशन प्राप्त चिनक { सं० त्रि.) १ चमोन । (पु.)२ पुराणानुमार होता है। किन्तु गोठ छोर कार यदि यह मुह चाटे, तो एक दानया मान । परेसे इप मोशन भी बाधा पहुंचती है। विवक्षण (सं० पु.) विधेम च धर्मादिमुपदिसतोति (पात्म' ८१५) विलक्ष ( मनुदास्तेवार दवा | HINE रति