पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/३५७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विचिन्तन-विच्छत दिवादितव । १ नानावर्णयुक्त, रंग-बिरंगा । २ आश्चर्या, वितस् (सं०नि०) विगत यिया या चेतो यस्य । जनक । .: ::

१ विगतचित्त, जिसका चित्त ठिकाने न हो। २ विरुद्ध

विचिन्तन (सली ) चिन्ता करना, सोचना। वित्त, दुष्टवित्त । पर्याय-दुर्गनस, भन्तर्गनस, विमनस्। विचिस्तनीय (सं० वि) वि-चिन्ति-मनीवर विचिन्ति- - - - - .... .' हेम) नव्य, जो चिन्ता करने या सामने योग्य हो ।. विशिष्ट हान हेतुभूत, जिससे विशिष्ट शान उत्पन्न विचिन्ता (!सं रसो०) विशेष-प्रकारसे चिन्ता, सचिः हो। विशिष्ट शान,जिसे किसी विषयका विशेष शान विचार। ,:.;. :.. ". हो.१५ अष्ठान, बेहोश । ६'दुए, पाजी! मूर्ख, येवकूफ। यिनिन्तित (सं० त्रि०) १ विशेष रूपसे निन्तितं । २ वि. विचेयसी० त्रि०) वि.वि-यत् । विजयनीय, अम्येषण शेप जिग्नाके विषयोभूत .....: . करनेके योग्य । । . . . . चिनिन्तित (सं० विविनाका विष्ट (० लि.)१चेष्टारहित, जिसमें किसी प्रकारको विचिन्त्य (० लि.) वि-चिन्ति-पती विचिन्तनीय, छोटी न हो; जो हिलता बोलता न हो। २ वियद चेटा. जो विशेषकासे चिन्तन करने या सोचने पोय हो।" | "शील, जो विरुद्ध चेया करता हो। '

जिसमें किसी प्रकारका सम्देश हो, सन्दिग्ध। | विचेन (संपली. ) विरुद्ध चेता। पीड़ा भारिस बुरी

विनिम्त्यमान (ette) वि-चिन्ति-शानंच जो 'ग्रेट करना, घर उधर लोटना, तड़पमा "

चिन्तित होता है, जिसका विचार किया जा रहा है। विचेठा। सनी बुरी या सराव धा करनी, मेंह

विचिम्पत्का (बि) विचिशतवसाय । यि बनाना या हाथ-पैर पटकमा । ' Cii .. न नेवाला.. . यिरित ' सिनि विशेषण वेरित गतिर्यस्य । चिचिला TO Y) प्राणहार कोटभेद संत के अनुसार विगत । 'विशण चेरितः दिनः इति । २ बिशेष .एक प्रकारको मारीला कोडी | 'वेष्टीयुक्त। विगत चेष्टितमस्पेति ।-३ चेटाशन्य । विपी ( लो) विचि (विकारादिति) होय तर ४ भग्वेपित । ('पली०) वि.चेट-भाषेत। ५विशेष लहर। " " टा। ६ विवर्तन, रोगपरिवर्तन । ७ व्यापार, क्रिया । यिनीरिन् (० वि०) चोरहीन, यस्तरहिन। . . विच्छनक (स० पु० ) सुनिषण्णक शाक, सुसनोका विचूर्णन (Eio लो०) अवधूलन, अच्छी तरह 'चूर करना। सांग। . .. विचूर्णित ( स० कि०) खण्डविपण्डिस, जो चूर चूर | विच्छन्द (स.पु.)... प्रासाद, महल । २ मन्दिप या. किया गया हो:: :... .. . ." ला ...... । विचूभू ( स्त्रो०) चूर्णीभू।।, ... / विच्छन्वक (स.पु. ) विशिर्छन्दोऽभिप्रायोऽन, विलिम (स.सि) हाधारी पिगिएच्छानिर्मितो था इति पि.एन्द साथ कन्. । विचत् ( स० स्रो०) यिमुक्त, जिम मुक्तिदान किया गया। धेयालय, देवमन्दिर। ममरटोकामे . भरतने लिखा, हो। (शुक 112) . . . . . कि दो या तीन तलेका जो मकान बनाया जाता उसे विचेतन ( स० लि.) १ भचेतन, बेहोश 'यिकदीन विछन्दक कहते है। :

...:

जिसे भले युरेका ज्ञान न हो। यिचन्दस् (सं० वि०) १न्दोदोन । (i०) २ छन्दो. विचेतपितृ (स.लि.) ज्ञान, अयो। वृत्तमे। :: .. ' ' . . . विता (i० पु०) विचेतस देखो। विच्छई (स.पु. समूह, राति।. .. . यिचेत (सं० वि० ) भयोध, अज्ञान । . विच्छईक (स.पु. ) विच्छन्दक देखो। .... वियेतय्य (० वि०) पि.सि-तव्यस् । यिययनोग, जो यिदि का (स.पु.) यमन, थे, उल्टो !" पृषा पृषक माया एक एक कर मद किया जाय। पिच्छल (सपु०) येतसंलंगा, यतको लता।। Vol, XxIn 11