पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/३६२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विच्छाय-विजन्या विछाप (स.पली) पक्षिणां छापा । समासे पख्यन्तात् | ७ वीचमें पढ़नेघाला . कयिताका स्थान, मा. परात् छाया पलौघे स्यात् सा चेत् पहूनां सम्बन्धिनी ८ कवितामै यति। लोप। । । स्यात्। यथा यीणां पक्षिणां छाया पिन्छामिति । (भरत)/ विच्छेदक (स.नि.) वि.छिद-पुल। पिच्चर १ पक्षियोंको छाया। (पु०) यिशिया छापा कान्तिर्यस्य | कारक, विच्छेद करनेवाला । २' कार पार कर इति । २ मणि । (भरत) ३ छायाका समाव। . अलग करता हो। ३ विभाजक, दिमाग करनेयामा। नि विगता छाया यस्य। ४ छायारदित, विच्छेदन ..(स'० पली०) घि-छिटल्यूट। बिछेर । निसायान पढती हो। प्राया ऐसा माना जाता | काट या छेद कर अलग करनेको क्रिया, मलग करना। ६. कि देगतामों, दानवों, भूतों और प्रेतो आदिको छापा | २नए करना, घरवाद करना।. . ... . . महों पड़ती। ५ कान्तिदित, श्रीहीग। . | विच्छेदनीय (सं० नि.) १ जो काट कर अलग करने पिच्छायता (स. स्त्री० ) कास्तिहोमता । . योग्य हो । २ जो विच्छेद करने योग्य हो। . . (कथासरित् १६।११३) विच्छेदी (सं० वि०) विच्छेत् शोलं यस्य वि.पि. . विच्छित्ति (स० खो०).वि.छिद-क्तिन् । १ महराग णिनि । विच्छेदकारक, विच्छेदन करनेशाला। रंगो शादिस शरीरको विलित करना। २ विच्छंद विच्छेद्य (H० त्रि०) विछेद-यत्। विच्छेदके योग्य, जो अलगाय। ३ हारमेद, एक प्रकारका हार। ४ छेद, काटने या विभाग करने के योग्य हो। .... । विमाश। ५ गेठावधि, घरको दायार ।, ६ घनिनायिच्युत ( नि.) वि-च्युःका विगत । २ जो कर । विचित्रता। ७ स्त्रियोंका स्वाभाविक अलङ्कारयिशप, कर अथवा और किसी प्रकार घर उधर गिर पड़ा हो। साहित्य में एक हाय जिसमें रसो थोड़े ङ्गारसे पुरुषको वियतक। ३जो जीवित ममेसे कार कर निकाला मोहित करनेकी चेष्टा करती है। ८.चमत्कार । शिष्ट्य, गया हो।, ४ जो सपने स्थानसे गिर या हट गया हो। विशिएता। (पु.) १० कपाय, फेथेका पेड़। ११ काट कर पियति (सं० रो०) पियु किम् । १ वियोग, किसी अलग या टुकड़े करना। १२ बुटि, कमी। १३ येष. पदार्थका अपने स्थानसे हट या गिर पड़ना । २ गात, भूषा मादिमें होनेपाली लापरवाही या पेढंगापन । गर्भका गिर जाना। १४ कयितामें यति। यिनग्ध (सं० लि.) पाश एमा, निगला हुमा । विच्छिन्न (स नि०) वि.छिद्-क। १ विभक, जिसका | यि (म०नि०) १ जिसको जा..८ गां या न हो। अपने मल महके साथ कोई संबंधन रह गया हा सिगालोमें धरे और पहिये मादिन। २पृथक, जुदा । ३ जिसका पिच्छेद हुमा दो। ४ जिसका बिजट (सं० वि० ) जया-रहित, जटाशन्य । मन्त हो गया हो। ५ कुटिल। यिजन (et. लि.) विगतो जने यस्मात् । निर्गन । पर्याय- (पु.) वालरोगमेद । ७ गमोर सघोषण, बहुत गदहा पाय जो कटनेस हो गया हो। यियिक, छन्न, निागलाक, रक्षा, उपांशु। विपरित ( स० लि. ) पि.छुरक। मनुलिप्त, अनु पिमन (हिं. पु. ) हया करने का पंगा, बोमन ! शित। विजनता ( लो०) जनशून्यता, एकाता माय! विच्छेतृ (स.नि.) वि-छेद-सूच । यिचोदकता, विजनम ( स० नो० ) पि-जम-क्युट् । प्रसप, मनन करने अलग गलग करगेवाला। : । को किया। पिचोद (स. पु.) यिछिद्-। १ यिोग, यिरह। मिजामन् । ० नि०) वियद्ध जन्म यस्य। १E. २कार या छेद कर मलग करने को मिला। ३म या दोगला। २यिनजमा (पु.) ३ वर्ण-सरात पोचसे टूट जाना, सिलसिला तर माना। ४.किसी भेद। ४ यह व्यक्ति जो जाति-युत कर दिया गया है।। । प्रकार मलग पा टुकड़े टुकड़े करना। ५ नाग, पर- विकन्या (सखा. ) गर्भधारणा, यह रसो, जो समय बायो। ६ पुस्तकका प्रकरण या अध्याय, परिच्छेद।' करनेका दो। . . . . ।