पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/३९७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विजारत-विजित विजारत ( १० खोल) वजोरका पद, धर्म या भाव;| युद्ध कराने में इच्छुक, जिसको युद्ध कराने की इच्छा हो। मन्त्रित्या विनियम (स ) विजिघत्ता अस्त्यस्पति मर्श विजावत् (सं०नि० ) जातपुत्र । ( अथव्ये ६।३।१३), मादित्वादच । भोजनेच्छ,, खानेका इच्छा करनेवाला। विजापन ( स० वि० . विमानता, बिजननकर्ता, पैदा , विजिघासु ( स० वि०) विहन्तुमिच्छ : वि-हन-सन् : करनेवाला। (भृक ३ १।२३ ) । (सनाशसमित उः । पा ३२१६८)। जिघांमापरायण, जो विजिगोप (स' शिजपा मस्त्यस्येति अर्श आदि. विशेष प्रकारसे हनन (हिंमा) करने । इच्छा करता हो। त्यादच् । 'जरेतु विजरको इच्छा करनेवाला। ) २ विघ्नाचणे छ । (सिद्धान्तकौमुदी) विनिवृक्ष (सं० वि०) विप्रोतुमिच्छ। विप्रह-सन | (सनीसभिक्ष उ: । पा३।१६८ ) विहेच्छ.. युद्धा विजिगीषा ( ख) विजे नुमिच्छा वि-जि-सन् आ मिलापा, युद्धका इन्चा करनेवाला। स्त्रियां टाप। १ स्पोदरपूरणासतिनिमित्त निन्दात्या- विजिश सा ( स० प्रा०) विशेषरूपम जाननेका इच्छा। गेच्छा, यह इच्छा जिसके अनुसार मनुष्य यह चाहता है ( भाग० १६१६) कि मुझ कोई यह न फइ सके कि में अपना पेट पालन विजिशासितव्य (स. वि०) वितिक्षासनोय, विजिशासा. मसमथ । २ध्यवहार । ३ उत्कर्ष, उन्नति । ४ विजय । के योग्य । प्राप्त करनेका इन्छा। विजिज्ञासु (स.त्रि०) विजिज्ञासाकारी, विशेष प्रकारसे विजिगीवावत् (स.नि.) पिजिगोपा विधतेऽस्य रिजि. जाननेको इच्छा करनेवाला। गाश-म तुप मस्य वत्यम् । विजिगोपाविशिष्ट, जिसे वितिशास्य (स'. नि.) विजिज्ञ.सितथ्य, जिज्ञासा विजिगीपा हो।। योग्य। विजिगीपाविर्जित (सं०नि०) विजिगोपया विवर्जितः। विजिट (अ' स्रो०) १ भेट, मुलाकात । २ डायर मादिक विजिगोपाउदर रहित, जिसे विजिगीषा नहीं है सिर्फ का रागोके देखने के लिये माना। ३ वह धन जो डाकर पेटको चिन्ता है। पर्याय--आघून, शौदरिक। । मादिको मानेके उपलक्षमें दिया जाय। पतिगापिन् (स'. वि०) वितिगोपा अम्त्यम्य विजिबिजिटर्स थुक (२० स्त्रो०) किसो सार्वाजनिक संस्था- गोपा-इन् । विजिगं पावान्, 'विजिग पारिशिष्ट । । की यह पुस्तक जिममें वहां के माने जानेवाले अपना नाम विजिग.पीय (स.नि.) विनिर्गमा अत्यस्मिन् विति. ___ और कभी कभा उस संस्था सम्बन्ध में अपनी सम्मति गोवा (उत्करादिम्परयः इति चतुयथेषु । पा ४१२६०) छः । भो लिखते हैं। विजिटिंग कार्ड ( पु.) एक प्रकारका बढ़िया छोटा जिसमे या जहाँ यतिगोपा हो। काई। इस पर लोग अपना नाम, पद और पता छपया विगिषु (स.वि.) निजे मिस्छु: शि-अ-सन् । लेते हैं और जैव किमोसे मिलमे जाने हैं, तब उसे अपने (सनाभिक्ष . 1 पा रा१६८) । जपेच्छाशाल, विजयकी आगमनको सूचना देनेके लिपे पहले यह कार्य उसके इच्छा करनेवाला। पास भेज देते हैं। विनिगःपुना (स. स्त्री०) विजिगीषु होनेका भाव या चिजित (स ) विशेषेण जिता घा वि-जि-क। १पराजित, जिस पर विजय प्रांत को गई हो, जो ज.त विजिगोपुत्व ( लो) विजिगीषु होनेका भाव या [ लिया गया हो। ( पु०) २ प्रदेश जिस पर मिजेष धर्म। प्राप्त को गई हो, जाता हुआ देश। ३ कोई माम्त या विजिग्राहयिषु (सं.वि.) विप्राहयितु विप कारयितु इच्छुः प्रदशं । फलित ज्योतिपमें यह प्रइ जो युद्धमें किसी वि-ग्रहणच्-सन् उ. ( सनामिक्ष ।। पा ३२६१६८। दूसरे प्रहसे बलमें कम होता है। Vol XII. 83 धर्म।'