पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/३९८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


म शशील विजितात्मा-विजन घिजितारमा : पु०) शिवका एक नाम 1 . विजुल (स० पु०) शाल्मलो फन्द। (राजाना) घिजितारि ( स० त्रि०) विजिता पराभूतः मरियेन । १. विजुली (स० स्त्री०) १ सह्याद्रिर्णित एक देवीका . जिसने अपने शव को जीत लिया हो। (पु.)२.पक | नाम। (सधा० ३०४६) २ विजली देखो। ... राक्षसका नाम । (रामायण ६।३५।१५) बिजम्म (सं० पु०) विज मन म । विज भण, विकाश। यिजिताभ्य ( स० पु० ) राजा पृथुके एक पुत्रका नाम। विज म्भण (सं० लो० ) पि जमा ल्युट ! १ किसी पदार्थ (भागवत ४।६।१८) | का मुंह खोलना। २ उपासो लेना, जंभाई लेना। ३. विजितासु (सं० पु०) विजिता असयो पेन । १ वह जिसने , धनुपकी डोरो खोंचना । ४ भौं सिकोड़ना। .. प्राण जय किया हो ।२ मुनिभेद । (कथासरित्सा० ६६।१०४)| विज म्भमान (सं० त्रि०) वि-ज,म्भ शानच् । विकाशमान, विजिति ( स० स्रो०) पि-जि-किन् । १ विजय, जोत । २ प्राप्ति । (नि० ) ३ यिजिलं । (भमरटी० रायमु०) विजम्मा (स. स्त्रो०) उवासी, जभाई। ... विजितिन् (सं० त्रि०) यिजित, पराजित । | विज म्भित (सल0) वि-ज,म्भ-क्त । १ चेपा । (fao) (ऐतरा० २१२१) । २ विकस्वर, विकसित । ३ व्याप्त । ४ जम्मायुक्त। । विजित (स.नि.) यिज-तृच् । १ पृथक्, भिन्न । २ रिजेतव्य ( स० त्रि०) यि-जि-तध्य । विजयाई, जो भीत, बरा हुमा। ३ कम्पित, कंपा हुआ। विजित करने के योग्य हो, जो जीतनेफे योग्य हो। विजित्यर ( स० वि० ) वि-जि-करप् तुगागमः । विजय-विजेता (सं० त्रि०) विजेतृ दोखो। शोल, विजेता, जातनेवाला। विजेतृ (सं० त्रि०) वि-जि-वृन् । विजेता, जिसने यिजय. विजित्यत्त्व ( सं०क्का०) विजित्यरस्य भाव त्व । चिजि- पाई हो, जीतनेवाला, विजय करनेवाला। ... ' त्यरका भाष, धर्म या कार्य, विजय विजेन्य ( स० नि० ) दूरदेशभव, जो दूर देशमै हो। " विजित्वरा ( स० सा० ) एक देवीका नाम । ...( भूक १११६४) पिजिन (स.नि.) विजिल। (अभरटोका रायमु०) | विजेय ( स०नि०) विजि-यत् । विजयाई, जिस पर विजिल ( स० त्रि.) १ऐसा भोजन जिसमें अधिक रस विजय प्राप्त की जाने की इच्छा हो. जीता जानेक पाग्य । ना। पर्याय-पच्छिल, विजायन्, विजिन, विजल, विजेय (सं० पु.) पिजय। उज्जल, लालसाक, विजबिल, विज । (शब्दरत्ना.) चिमार (हि० पु० ) पहारका बड़ा वृत जो सालका (10)२५ प्रकारका दहा। एक भेद माना जाता है। यह पूों भारत तथा वरमा विजिबिल (स० वि०) विजिल। बहुत अधिकतासं पाया जाता है। इसकी लकड़ी बहुत विजिहाा (म खा०) मिहत्तुं मिच्छा यि-ह-सन् यिजि- मजबूत होती है और खेतोके भौजार बनाने तथा इमारत हार्प-मह टाप । विहार करने की इच्छा। ' आदिके काममें आती है। यिजिहोपु (स.लि.) विहर्त मिच्छ, वि-ह-सन, विजि- विजेसाल (हि.पु०) विजेसार देखो। होप-सग्नन्तादु। विहार करनेम इच्छुका विजार (हिं० पु० ) १ विजौरा देखो। (यि०) २ नियंल, विजिल (सं० वि०) पिशपेण जिम्मः । १ वक्र, फुटिल, | कमजोर। टेदा। २ शून्य, खाली। ३ अप्रसन्न। विजोपस् (सं० वि०) विशिष्टम्प सोम द्वारा प्रोणनकारी। विज्ञायित (स नि०) विगत जापित यस्य । मृत, मरा विजोहा (हिं० पु० ) एक वृत्तका नाम। इसके प्रत्येक - घरणर्म हो रगण होते हैं। इसे जाहा, यिमोहागौर Fina (सनि.) मिसे जय प्राप्त करनेको इच्छा हो। विजोहा भी कहते हैं। विजु (सं० पु०) पक्षिपालक, यह जो चिड़िया पालता हो । | विज (सं० पु० ) राजमेद । (राजत० ६।२०२७ ) .. : - (ऐतरेय मारपयक १।१७) | विजन (सं० वि०.) विजिल! . . . . . . . . भा।