पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/४००

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३३० विनितात्मा-विजन . पिजितात्मा (स.पु०) शियका एक नाम ! विजुल (स' पु० ) शाल्मलो कन्द। (राजनि० ) . . विजितारि ( स० वि०) विजिता पराभूता अरिपेन ! १ विजुली ( स० स्त्री० ) १ सह्याद्रिणित एक देवीका जिसने अपने शत्रु को जीत लिया हो। (पु.) २ एक नाम। (सह्या० ३०४६ ) २ विजस्तो देखो। राक्षसका नाम। (रामायण ६।३।१५) : विज़म्भ (सं० पु०) वि-जम्म-अन् । विज गाण, विकाश। .. विजिताभ्य ( स० पु०) राजा पृथुके एक पुत्रका नाम। विज म्भण (सं० क्लो०) घि जम्म ल्युट । १ किसी पदार्थः । (भागयत ४६१%) | का मुंह खोलना। २ उपासी लेना, जंभाई लेना। ३.. विजितासु (सं० पु०) विजिता असयो येन । १ यह जिसने धनुषको टोरो खींचना । ४ भौं सिकोड़ना। . . माण जप किया हो । २ मुनिभेद । (कथासरित्सा० ६६३१०४) | विज म्भमान (सं०नि०) यि-जम्भ-शानच् । विकाशमान, यिजिति ( स० स्रो०) वि-जि-तिन् । १ विजय, जोत । प्रकाशशील । २प्राप्ति । (नि.) ३ विजिल । ( अमरटी० रायमु०) विजम्मा (स. स्त्री० ) उवासी, जभाई। .:. विजितिन् ( सं० वि०) पिजित, पराजित। विज म्मित ( स० लो०) यि-ज,म्भ-क्त ।:१ चेष्टा । (नि०) (ऐत०या० २१२१) | २विकस्वर, विकसित । ३ व्याप्त । ४ जम्मायुक्ता । विजित (स० वि०) विज-तृच् । १ पृथक, भिन्न । २ रिजेतव्य ( स० त्रि०) बि-जि-तव्य । विजयाई, जो भीत, डरा हुमा। ३ कम्पित, क पा हुआ। विजित,करने के योग्य हो, जो जीतने के योग्य हो। .. विजित्यर ( स० वि०) वि-जि-करप तुगागमः I विजय-विजेता (सं० त्रि. विजेतृ देखो। ..: '.. शोल, विजेता, जोतनेवाला। विजेतृ (सं० त्रि.) यि-जि-तुन् । विजेता, जिसने विजय विजित्यादव ( सं० क्ला० ) विजित्यरस्प भाय त्य । यिजि- पाई हो, जीतनेवाला, विजय करनेवाला। .:. . स्वरका भाय, धर्म या कार्य, विजय। विजेन्य (स'०नि० ) दूरदेशभत, जे दूर देशमें है।। - विजित्वरा ( स० मा० ) एक देवीका नाम ! . . ..( भूक ११११६४). विजिन (सं०नि०) विजिल। (भमरटीका रायमु०) विजेप (स.नि.) यि-जियत् । विजया, जिस पर विजिल ( स ०) १ ऐसा भोजन जिसमे अधिक रस | विजय प्राप्त को जाने की इच्छा हो, जीता जाने के योग्य। न है। पर्याय-पच्छिल, विजायन्, विजिन, बिजल, | विजेय (सं० पु०) विजय।. . उनल, लालसाक, विमपिल, विज ।। (शब्दरत्ना०) विजेमार (हि. पु.) एकप्रकारका यहा वृक्ष जो साका (30)२५ प्रकारका दहा। एक भेद माना जाता है। यह पूर्वो भारत तथा वरमा विजिधिल (सत्रि०) पिजिल। बहुत अधिकतास पाया जाता है। इसको लकड़ी बहुत विजिहा (स० प्रा०) विहत्तुं मिच्छा यि-ह-सन् यिजि- मजबूत होती है और खेतोके भौजार बनाने तथा इमारत हामा टापू । विहार करने की इच्छा। . ' आदिके काममें माती है। विजिहीपु (स.नि.) यिह मिच्छुः, वि.ह-सन, विजि-विसाल हिं० विजेसार देखो। .. . होप-सम्नन्तादु। विहार करने इच्छुक। विज्ञार (हिं० पु०) विजौरा देखा । (यि.) २ निर्थल, . यिजित (सनि.) पिशपेण जिल्ह्यः । १ या, फुटिल, । कमजोर। । टेढ़ा। २ शून्य, खाली। ३ अप्रसन्न । . विजोपस् (सं० वि०) विशिष्टरूप सोम द्वारा प्रीणनकारी। विज्ञापित (स०नि०) विगत नायित यस्य । मृत, मरा यिजादा (हिं० पु० ) एक वृत्तका नाम। इसके प्रत्येक भा। घरणमें दो रगण होते हैं । इसे जाहा, विमोहा गौर raig (स'. नि ) जिसे जय प्राप्त करनेको इच्छा हो। बिजोहा भी कहते हैं। विज (सं० पु०) पक्षिपालक, यह जो चिहिया पालता हो। विज (सं० पु० ) राजमेद । ( राजत० ६।२०२५) : . . (ऐतरेय भारपयक १।१७) विजन (सं० सि०) विजिल। ....