पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/४१३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विडाल. पालतू और जङ्गली विल्लियां दिखाई देती हैं। पालास, पिल्लो, फारसी-माइदा, पुल्चाक; अफगान- टेग्मिनिक और लाइद् आदि प्राणिधिोका अनुमान है, पिस्चिक , तुर्क-पुस्विक् , कुर्व-पसिक; लिथुयानीय- कि उक्त पालतू विलिलयां अपने यन्य-जातीय जीवोंके | पिइजीग; अरय-किट्ट, मङ्गरेजी-Cat. Pussy cat सामयिक संगतिविशेरसे उत्पन्न हैं । फिर उनके | इत्यादि। परस्पर संसर्गसे ऐसो एक नई विड़ालजातिको उत्पत्ति ___ पहलेसे विभिन्न देशवासियों में दिल्ली पालनेकी रोति दीख पड़ती है। केवल भारत ही नहीं, सुदूर . स्काटलैण्ड F. Sylvestris, अलजियर्समें F. tybic पाश्चात्य भूखएडो में भी भादरके साथ विल्लियां पालो और दक्षिण अफ्रिकामे F. Caffra नामसे तीन तरह के | जाती थीं । प्राचीन संस्कृत प्रन्धों को पढ़नेसे हम विल्ली धनविडाल देखे जाते हैं। भारतमें साधारणतः ४ तरह के तथा उसके स्वभावका परिचय पाते हैं। ईसासे वहु- पनविड़ाल हैं, उनमें F. Clrats जातिको पूछ lynx जाति शताब्दी पहले के रचित रामायण प्रन्थ (६१७३।११)में बिल्लियों की तरह है। हान्सि जिलों F. Ornata or torquata पर चढ़ कर राक्षसों के युद्धक्षेत्रमें जानेको यात लिखी और मध्यएशिया F, manal श्रेणोफे बहुतेरे वन- है। विल्लोके उछल कर चूहेका शिकार करनेको धान विडालोका वास है। मानयद्वीपमें ( Isle of man)| भी हम उसी रामायणके लङ्काकाएडसे जानते हैं। प्रसिद्ध पक तरहको विना पूछको विल्ली है। इसका पिछला वैयाकरण पाणिनिने भी मार्जारमूपिकको नित्यविरोधिना पैरबड़ा होता है। एएटोगोयाको पालतू क्रिपल बिल्लियां जान कर हो समाससूत्र में (पा २४६) "माजारमूपिक्म्" (Creole cats) अपेक्षाकृत छोटो हैं। किन्तु इनका मुंह। पदविन्यास किया है। विल्टियां चूहों के शिकार करने के सांकी सराह औलखा है। पैरागई राज्यको विलियां। समय ध्याननिष्ठकी तरह विनीत भावसे अयस्थान करती छोटी और दुबली पतली होती हैं । मलयद्वीपपुञ्ज, श्याम, है। यह देख भगवान मनुने (मनु ४।१६७) तत्पनिक पेगु और ब्रह्म मआदि प्राच्य जनपदों में जो सय पालतू | मनुष्पको 'मारिलिङ्गिन्' शब्दसे भभिहित किया है। विल्लियां देखी जाती है, उनकी साकार होती हैं। केवल भारतवासो ही नहीं, प्राचीन यूनानी, रोमन और और उनका अगला माग गठीला होता है । चीनदेश, | इद्रास्कान भी विल्लोके द्वारा चूदेके मारे जानेको वात जानते एक जातिको विल्ली है, उनके कान चिपटे हैं। फारसको थे। प्राचीनकालमें विल्लो चूदोंके शिकारक चातुर्यका चित्र विख्यात लम्बी अहोरा विल्लियां मध्यपशियाको F.] खिलौने और दीवार पर बनाया जाता था। मारिएटलने manal से उत्पन्न हैं। भारतकी साधारण विल्लियों से चहे मारनेवाले जिस पालित पशुका उल्लेख किया है, इनका जोड़ लगता है। अध्यापक रोलेएनने उसीको वर्तमान श्वेतवक्ष मार्टिन - पृथ्वीके अन्यान्य स्थानों को अपेक्षा एशियाके दक्षिण (farten foina ) नामक पशु कहा है। किन्तु यथार्थमें . और पश्चिम अंशो में हो विभिन्न जातीय बिल्लियों का | चूदा मारनेवाले यह जोय लम्व Pole cat या Fou. पास है । विभिन्न जातीय भाषामें यन्य या पालिस बिल्ली mart हो मालूम होते हैं। पुस या पुसी नामसे विख्यात हैं । पालित अर्थात् जिन्हें । .. कुर्दिस्तान, तुर्फ और लिधुनियाफे अधियासी दिली. गृहस्थ यत्नपूर्वक पालन करते है, उनमें भी किसी को बड़े प्यार करते हैं, मिनके अधिवासी भी विलियो। किसी विल्लो का नाम पुसो, मेनी, पुली सुना जाता है। को बहुत दिनोंसे प्यार करते आने है। पाइक्लि प्रथम कभो कमी लोग पाली हुई विल्लोको पालतू कुत्तों को | या प्राचीन असीरोय प्रस्तर चित्रोंमें विलिपोका चिह्न तरह पुकारते हैं, किन्तु इस जातिका साधारण नाम तक नहीं है। कहना न होगा, कि वर्तमान यूरोपमें बिल्लो ही है। विभिन्न भाषाओं में इस शपको संशा- विल्लियोका एकान्त ममाय है। हमारे देशमें से . संस्कृतमें मार्जार , बंगलामे विडाल, विरेल, पुसो; भोट ] फारसकी मंगोरा विल्लियोंको लोग किसे पालते है, मौर सोपा-सि-मि ; तामिल-पोनो , तेलगु- यूरोपमें कोई कोई भादमी शौकस हो शिल्लियां पालते