पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/४९७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विधिकर-विधुवन ४१३ । २० लाना |२१ वाक्य । २२-अलङ्कारभेद । सिद्धस्यैव विधियोग (स' पु०) विधेर्योगः।- विधानानुरूप विधिके विधान यत् तामाहुर्विध्य ल कृतिम् ।" (च० ) किसी गनुसार। ...... . . .

जगह सिद्ध विषयका फिरसे विधान होने पर यहां विधि विधिलाक.( पु.) ब्रह्मलोक, सत्यलोक।

अलङ्कार होता है। . . . | विधिवत् (स० अव्य) विधि हवार्य-प्रति । १ यथायिधि, विधिकर-(सं०नि०) करोतीति कृ-अन् : विधेः करा! | विधि अनुसार । कायदेफे मुताविक ! २ जैसा चाहिये, विधिकारक, विधानकर्ता। ...' . : . उचित रूपसे। :. . : विधिकृत् (सं० नि) विधि कमेतीति छ-किए तुगागमः। विधिवद्ध (स: नि०) विधिना पद्धः। -नियमवद्ध । । यिधिकारक, विधानकर्ता। .... . . यिधिवधू (स० स्त्री०) विधेघः । ब्रह्माकी पत्नी, सर. विधिश (स० वि०) यिधिं जानातोति ज्ञा-क। १ विधि- | स्वती। दशी, विधिको जाननेवाला, शास्त्रोक्त विधानको जानने विधियाहन - (स.पु०.) ब्रह्माको सवारी, ईस। वाला ।' २रोति जाननेवाला!' .:, ....... | विधियित् (सं० त्रि०)विधि' घेत्ति विधि-पिद-फिए । विधित्व (स'० लो०) विधेर्भावः त्य। विधिका भाव या विधिज्ञ शास्त्रज्ञ, विधि जाननेवाला। । । धर्म, विधान। . . : ....:...: विधिशास्त्र । स० की०) विधिरूपं शास्त्र'। १ प्यपहार- विधिरसा (स० सी०) विधातुमिच्छा विधा-सन् विधित्स शास्त्र, आईन । २ स्मृतिशाख। . . ., अच् टाए । विधान करनेको इच्छा, विधान-प्रणयन | विधिसार,( स० पु० ) राजभेद.. बिम्बिसार । करनेकी अभिलापा। .: : :: : ।- (भागवत,१२।११५) विधित्सु (स० त्रि०) विधातुमिन्छुः पि.धा-सन् विधिस | विधिसेध (स० पु०) सिध-घम्, संघ, विधिश्च सेधश्च । सनम्तात् । विधान करने में इच्छुक । .. | विधि और निषेध । विधिदर्शिन् (स'० नि०) विधि द्रष्टु'शोलमस्य दृश-विधु (स, पु०.) विध्यति ससुरानिति ध्यध फु। १ णिनि। सदस्य, निधानयेत्ता। यज्ञादि कार्यमें एक . विष्णु । ब्रह्मा कपूर, कपूर। ४ एक राक्षस. • सदस्य यह देखने के लिये नियुक्त किये जाते हैं, कि होता. का नाम!, : ५ आयुध । ६ वायु । (संक्षिप्तमार उपा० ) भाचार्य आदि ठोक टोक विधिफे अनुफूल कर्म कर रहे / विध्यति विरहिण विध्यते याहुनेसि या ध्यय:ताड़े (ए. हैं या नहीं। .. . ... . . भिदि व्यधीति । - उण ११२४) इति कु:। ७ चन्द्रमा । विधिदष्ट ( सं० त्रि०) विधिना दृष्टः । शास्त्रपिहित। ८ पापक्षालन, पाप छुड़ाना। जल सान। (त्रि०) विधिदेशक (म० पु. ) विधि दिशतीति दिश-ण्युल्। १० फर्ता । ( भृक् १०१५५४५.) .. विधिदी, सदस्य। विधुकान्त (म० पु० ) संगीतका एक ताल । विधिपाट (स'. पु०) मृदंगके चार वर्णो से पक वर्ण। . रपक्रान्त देखो। चारों वर्ण ये हैं--पाट, विधिगाट, फूटपाट और खंड विधुग्राम-चहलके अन्तर्गत एक प्राचीन ग्राम । पाट । . (भविध्यनमख० १५१४६) विधिपुत्र ( स० पु० ) विधेः पुत्रः । ब्रह्माके पुत्र, नारद । विधुत (सलि०) यि-धुक्त । १ त्यक्त । २ कम्पित । विधिपुर (स० पु०) प्रमाका लोक, ग्रह्मलोक । विधुति (मस्त्री०) विधु कि । १ कंपन, कांपना । विधिपूर्वक (स.वि.) विधिः पूर्व 'यस्य कन्। जो २ निराकृति, निराकरण। . विधि अनुमार किया जाय, नियमपूर्णक। बिघुदार (संपु०) चन्द्रमाको स्रो, रोहिणी।। विधियोधित (म' नियिधिना योधितः । शास्त्रविधि विधुदिन । स० ली.) विधेर्दिन । चन्द्रमाका दिन, द्वारा बताया हुमा,शाखसम्मत। .. सोमवार। . . . . ' विधियक्ष (स.पु. ) विधियोधित यश, यदया जिसके विधुनन (सी०) यि धूणिच ल्युट नुक व यो. करनेको विधि हो। जैसे-दर्शपोर्णमास1:-... । दरादित्यास् हस्य। कम्पन, कापना । । ... Vol. IXI 104,